कोरोना काल में बिगड़ी अर्थव्यवस्था…
प्रदेश सरकार के राजस्व में आई भारी गिरावट

भोपाल। कोरोना महामारी के चलते पूरे देश की अर्थव्यवस्था चरमरा गई है. मध्यप्रदेश सरकार की आमदनी में भी 60 प्रतिशत तक कमी आई है. जहां पिछले साल अप्रैल व मई में वाणिज्यिक कर में आबकारी, पंजीयन एवं मुद्रांक और पेट्रोल-डीजल पर वैट से 3223 करोड़ रुपए मिले थे. वहीं इस साल इन दो महीनों में केवल 1361 करोड़ रुपए की आमदनी हुई है. जिसके हिसाब से सरकार को 1862 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है. 

बताया जा रहा है कि आय में कमी का असर प्रदेश के नए निर्माण कार्यों पर भी पड़ा है. इस साल केवल स्वास्थ्य सेवाओं पर ही 1500 करोड़ खर्च किए गए हैं. अप्रैल से लेकर अब तक हर महीने केंद्र से केंद्रीय करों में राज्य की हिस्सेदारी के 3-3 हजार करोड़ रुपए और जीएसटी के 100 करोड़ रुपए मिल रहे हैं. 

जिससे राज्य सरकार अपने खर्चे चला रही है. अगर केंद्र से राशि न मिलती तो सरकार को बड़े खर्च के रूप में कर्मचारियों की सैलरी देने में दिक्कत हो सकती थी. शराब की बिक्री प्रभावित होने से बीते दो महीनों में 2500 करोड़ रुपए का झटका लग चुका है. जहां पिछले साल मई में 1191 करोड़ की राजस्व आमदनी हुई थी, वह इस साल मई में घटकर 479 करोड़ रुपए ही रह गई है.