करीब 500 लोगों को मोमाेज बेचे...
मोमोज का ठेला लगाने वाला निकला कोरोना पॉजिटिव 

ग्वालियर l ग्वालियर में रविवार काे काेराेना संक्रमित पाया गया जती की लाइन बिरलानगर निवासी जीतू कोरी माेमाेज का ठेला लगाता है। मुरार के सात नंबर चाैराहे पर सेंट पॉल स्कूल के पास जीतू रोज शाम को ठेले से मोमोज बेचता है। उसका भाई विक्की भी पटेल पेट्रोल पंप के पास मोमोज बेचता है। जीतू को छह दिन से बुखार है लेकिन वह शनिवार तक मोमोज बेचता रहा।

इस दौरान उसने करीब 500 लोगों को मोमाेज बेचे। जीतू अपने भाई और पिता के साथ परिवार के 8 लोगों के संपर्क में भी रहा है। जीतू के पिता जगदीश प्रसाद जती की लाइन में किराने की दुकान चलाते हैं। उनके यहां भी आसपास के लोग किराना लेने आते हैं। आशंका है कि जीतू, विक्की और इनके पिता जगदीश के संपर्क में आए लाेग भी संक्रमित हाे सकते हैं। 

गाैरतलब है कि इससे पहले शहर में धनेली निवासी दूधिया इंद्रजीत कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। इंद्रजीत की रिपोर्ट 1 जून को पॉजिटिव आई थी और रिपाेर्ट आने से कुछ घंटे पहले तक उसने किलागेट क्षेत्र में घर-घर दूध बांटा था। वहीं इंद्रजीत के दो भाई धर्मेंद्र और कमलेश चक्की चलाते हैं। ये दाेनाें भी 2 जून को कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। इनमें से धर्मेंद्र बंशीपुरा में तथा कमलेश बड़ा गांव में आटे की चक्की चलाता है। 

हॉट मोमोज बेचने वाले जीतू के संक्रमित पाए जाने के बाद कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह ने उसके संपर्क में आए लोगों को जांच कराने की नसीहत दी है। उन्होंने कहा है कि यदि लक्षण हो तो अनिवार्य तौर पर जांच कराएं और ऐसा न होने पर भी जांच करा सकते हैं। एसडीएम प्रदीप तोमर ने बताया कि जीतू अाैर उसके भाई विक्की के हॉट मोमोज खाने वाले लोग अपने सैंपल दें। ऐसे लाेग मुझसे मोबाइल नंबर 9425112082 पर संपर्क कर जानकारी दे सकते हैं ताकि उनका सैंपल कराया जा सकेगा। ऐसे लोग डॉ. राजावत के मोबा. 9893099370 पर भी संपर्क कर चिकित्सीय परामर्श प्राप्त कर सकते हैं।

शनिवार काे एमके प्लाजा में काम करने वाले और दुकानदारों सहित 105 लोगों की पूल सैंपलिंग की गई थी। तारागंज क्षेत्र में ठेला व ऑटो लगाने वाले 113 लोगों के साथ गिरगांव, विनय नगर सहित अन्य जगह पूल सैंपलिंग की गई थी। इन सभी 297 सैंपल की रिपोर्ट रविवार को निगेटिव आई है। साथ ही डबरा में 82 लोगों की पूल सैंपलिंग की रिपाेर्ट भी निगेटिव है।

कोविड-19 कोरोना के संक्रमण से बचाव को ध्यान में रखते हुए जेल में बंदियाें से मुलाकात 30 जून तक प्रतिबंधित कर दी गई है। जेल महानिदेशक संजय चौधरी के मुताबिक सोशल डिस्टेंसिंग मेंटेन करने के लिए लगभग 7 हजार बंदियों को अंतरिम जमानत एवं पैरोल देकर रिहा किया गया। इससे जेलों में लगभग 19 प्रतिशत ओवर क्राउडिंग कम की गई है।