हर माह के प्रथम सोमवार को…
शासकीय कर्मचारियों का विदाई समारोह कलेक्ट्रेट में होगा आयोजित

ग्वालियर। शासकीय सेवा पूर्ण करने पर सेवानिवृत्त हो रहे कर्मचारियों को सम्मानपूर्वक विदा किया जायेगा। कलेक्ट्रेट कार्यालय में विदाई समारोह आयोजित कर विदा ले रहे कर्मचारियों को शॉल-श्रीफल से सम्मानित करने के साथ-साथ सेवानिवृत्ति के दिन ही उनके सभी स्वत्वों का भुगतान भी किया जायेगा। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने नई पहल कर यह कार्यक्रम करने के निर्देश दिए हैं। महीने के प्रथम सोमवार को शाम 4 बजे कलेक्ट्रेट कार्यालय में विदाई समारोह का आयोजन होगा। इस समारोह में कलेक्टर के साथ ही प्रशासनिक अधिकारी और जिस विभाग के कर्मचारी सेवानिवृत्त हो रहे हैं उस विभाग के कार्यालय प्रमुख उपस्थित रहेंगे। समारोह में शॉल-श्रीफल के साथ सम्मान किया जायेगा और सेवानिवृत्ति के दिन ही कर्मचारी को उसके सभी क्लेमों की राशि भी उपलब्ध कराई जायेगी। अंतरविभागीय समन्वय समिति की बैठक में कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने इस संबंध में दिशा-निर्देश दिए हैं। बैठक में शासन की विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं और कार्यक्रमों की समीक्षा के साथ-साथ कोविड-19 के संक्रमण की रोकथाम के लिये की जा रही कार्रवाई को और प्रभावी बनाने के निर्देश भी दिए हैं। बैठक में सीईओ जिला पंचायत शिवम वर्मा, अपर कलेक्टर आशीष तिवारी, एडीएम टी एन सिंह, एडीएम किशोर कन्याल, अपर कलेक्टर रिंकेश वैश्य, सीईओ स्मार्ट सिटी जयति सिंह सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

 कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने कहा है कि सभी विभागीय अधिकारी स्वयं तथा अपने सभी अधीनस्थों को आरोग्य सेतु ऐप अनिवार्यत: लोड कराएं। शासकीय कार्यालयों में कोविड-19 को देखते हुए संक्रमण की रोकथाम के लिये सभी आवश्यक कार्रवाईयां भी सुनिश्चित की जाएं। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन शासकीय कार्यालयों में हो, यह विभागीय अधिकारी सुनिश्चित करें। उन्होंने यह भी निर्देश दिए हैं कि शासकीय अधिकारियों और कर्मचारियों के व्यक्तिगत प्रकरणों का निराकरण भी तत्परता से किया जाना चाहिए। पेंशन प्रकरणों के निराकरण में किसी भी प्रकार का विलंब नहीं होना चाहिए। किसी भी कार्यालय में अगर पेंशन का कोई प्रकरण लंबित है तो उसको तत्काल निराकृत कराने की कार्रवाई सुनिश्चित करें।  कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने यह भी स्पष्ट किया कि शिक्षा एवं स्वास्थ्य विभाग में लंबित पेंशन प्रकरणों को तत्परता से निराकृत करने के लिये विशेष पहल की जाए। अनुकम्पा नियुक्ति के प्रकरणों में भी तत्परता से कार्रवाई की जाए। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने सीएम हैल्पलाइन एवं लंबित प्रकरणों के निराकरण की समीक्षा के दौरान विभागीय अधिकारियों को निर्देशित किया है कि सीएम हैल्पलाइन के प्रकरणों के निराकरण में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। लेवल-4 तक शिकायत पहुँचती है तो संबंधित अधिकारियों को कारण सहित जवाब देना होगा। इसके साथ ही विभागीय स्तर पर जो प्रकरण टीएल अंकित कर भेजे जाते हैं उनका निराकरण भी निर्धारित समय-सीमा में सुनिश्चित किया जाए। जिन प्रकरणों में निराकरण समय-सीमा में संभव नहीं है, उनमें विभागीय अधिकारी कारण सहित जवाब वरिष्ठ अधिकारियों को प्रस्तुत करें।
 
कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बैठक में कहा है िक कोविड-19 के कारण प्रवासी श्रमिक बड़ी संख्या में ग्वालियर जिले में आए हैं। बाहर से आए सभी श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है। ग्राम पंचायतों में किए जा रहे विकास कार्यों में रोजगार उपलब्ध कराने के साथ-साथ विभिन्न योजनाओं के तहत कराए जा रहे निर्माण कार्यों में भी प्रवासी श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध हो यह सुनिश्चित किया जाए। निर्माण विभाग के अधिकारी अपने-अपने विभागों के निर्माण कार्यों में प्रवासी श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराएं। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने उद्योग विभाग के अधिकारियों को भी कहा है कि जिले में संचालित उद्योगों में भी प्रवासी श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध हो, इसके लिये उद्योग संचालकों से चर्चा कर रोजगार उपलब्ध कराने की पहल की जाए। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने सभी विभागीय अधिकारियों से कहा है कि बरसात के दौरान जिले में अधिक से अधिक वृक्षारोपण हो, इसके लिये सभी विभागीय अधिकारी अपने-अपने कार्य क्षेत्र में वृक्षारोपण के लिये अभी से तैयारी करें। शासकीय कार्यालयों, स्कूलों, हॉस्टलों आदि स्थानों पर वृक्षारोपण के लिये गड्डे कराकर विभागीय अधिकारी रखवाएं। ग्रामीण क्षेत्र के साथ-साथ शहरी क्षेत्र में भी अधिक से अधिक वृक्षारोपण के कार्य को हाथ में लिया जाए। जिले में वन अधिकार के पट्टे वितरण के जो प्रकरण शेष हैं उनमें शासन द्वारा समयवार कार्यक्रम घोषित किया गया है। ग्वालियर जिले में वन अधिकार के पट्टे वितरण की कार्रवाई निर्धारित समय-सीमा में सुनिश्चित की जाए।