उपचुनाव से पहले कांग्रेस में गुटबाजी चरम पर…
कमलनाथ ने दिग्विजय-समर्थक को कोषाध्यक्ष पद से हटाया
Bhopal/Indore News: उपचुनाव से पहले कांग्रेस ...
मध्यप्रदेश में उपचुनावों से पहले कांग्रेस पार्टी में गुटबाजी फिर सतह पर आने लगी है। प्रदेश कांग्रेस में दिग्विजय और कमलनाथ के गुटों के बीच तथाकथित एकता की असलियत भी सामने आने लगी है। प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और पूर्व सीएम कमलनाथ ने बड़ा बदलाव करते हुए प्रदेश कोषाध्यक्ष गोविंद गोयल को पीसीसी से बाहर का रास्ता दिखा दिया। गोयल को दिग्विजय सिंह का समर्थक माना जाता है और कमलनाथ की इस कार्रवाई के बाद प्रदेश कांग्रेस में नए सिरे से गुटबाजी की शुरुआत हो सकती है। 

2018 में विधानसभा चुनावों के बाद जब कमलनाथ सीएम बने थे, तब से दिग्विजय उनके सबसे बड़े सिपहसालार बने हुए हैं। इस साल मार्च में ज्योतिरादित्य सिंधिया की कांग्रेस से विदाई को भी पार्टी में कमलनाथ और दिग्विजय के गुटों द्वारा उनके ऊपर बनाए गए दबाव का नतीजा माना गया। हाल में राज्यसभा चुनाव के लिए विधानसभा में वोटिंग के दौरान भी कमलनाथ ने दिग्विजय की जीत के लिए हर कोशिश की, लेकिन अब दोनों के बीच की तथाकथित दोस्ती नए रंग में नजर आ सकती है। 

कमलनाथ की सरकार गिरने के बाद से ही दिग्विजय की उसमें भूमिका को लेकर कयास लगने लगे थे। कई कांग्रेस नेताओं ने भी दबी जुबान में माना कि दिग्विजय की राज्यसभा पहुंचने की जिद से सिंधिया-समर्थक विधायक पार्टी छोड़ने को मजबूर हुए, लेकिन कमलनाथ चुप्पी साधे रहे। अब जबकि विधानसभा की 24 सीटों के लिए उपचुनाव सर पर हैं, कमलनाथ ने गोयल को पद से हटाकर दिग्गी को झटका दिया है।