कलेक्टर ने ली 11 निर्माण विकास कार्यों की समीक्षा बैठक…
50 लाख सेे ऊपर निर्माण कार्य में तेजी लायें अधिकारी : श्रीमती दास 

मुरैना। कलेक्टर प्रियंका दास ने अधिकारियों को निर्देश दिये है कि 50 लाख से ऊपर के कार्य स्वीकृत है, उन कार्यों के लिये भूमि का चयन करंे। भूमि का चयन होने के बाद जो निर्माण कार्य अप्रारंभ है, उन्हें शीघ्र प्रारंभ करावें। जो कार्य प्रगतिरत है उन्हें पूर्ण करावें और जो कार्य पूर्ण हो चुके है। उनकी सूची कलेक्टर कार्यालय को उपलब्ध करावें। जिससे लोकार्पण एवं भूमिपूजन किया जा सके। यह निर्देश उन्होंने मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष मुरैना में उपस्थित जिलाधिकारियों को दिये। इस अवसर पर मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत तरूण भटनागर, नगर निगम, पीएचई, पीआईयू, पीडब्ल्यूडी सहित अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित थे। 

कलेक्टर प्रियंका दास ने कहा कि 50 लाख से ऊपर के जो निर्माण कार्य चल रहे है, उन निर्माण कार्य में तेजी लावें और समय-सीमा के अन्तर्गत कार्य पूर्ण करें। इसके तहत उन्होंने पीएचई विभाग की 24 नलजल योजनायें पूर्ण होने पर उनकी सूची जिले को उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। इसके साथ ही 13 नलजल योजनायें ऐसी है, जो किन्हीं कारण शासन स्तर पर लंबित है, उनके के लिये डीओ लेटर लिखवाने के निर्देश पीएचई को दिये। इसके साथ ही सीवर निर्माण कार्य की समीक्षा की। जिसमें निगम के अन्तर्गत सीवर निर्माण कार्य 18 फरवरी 2020 तक पूर्ण होना था, किन्तु कोरोना वायरस के कारण इस कार्य में विलंब हुआ।

 इसके लिये 3 माह का समय कम्पनी द्वारा मांगा गया था। इस पर कलेक्टर ने कहा कि अभी तक 106 करोड़ का भुगतान कंपनी का किया जा चुका है। कुल प्रोजेक्ट 138 करोड़ रूपये का है। किन्तु सीवर निर्माण कार्य अभी भी संतोषजनक स्थिति में नहीं हुआ है। उसमें कनेक्शन का कार्य शतप्रतिशत अपूर्ण है। इस कार्य में लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी। आगे आने वाले दिनों में वर्षा प्रारंभ होगी, जिससे यह कार्य होना कठिन होगा। कलेक्टर नगर निगम पीडब्यूडी, प्रधानमंत्री सड़क योजना, एमपी आरडीसी, एमपीबीई, पीआईयू और एमपी हाउसिंग बोर्ड विभागों में 50 लाख से ऊपर चल रहे निर्माण कार्याें की स्थिति को समझा और कार्य में तेजी लाने के निर्देश अधिकारियों को दिये।