क्षेत्रीय सांसद ने आदर्श ग्राम सिहोना का किया भ्रमण...
कोरोना से डरें नहीं, सावधानी बरतें : श्री शेजवलकर
 
ग्वालियर l कोविड-19 के संक्रमण से घबराने की आवश्यकता नहीं है। इससे बचने के लिये सावधानी आवश्यक है। घर से बाहर निकलते समय सभी लोग मास्क अवश्य पहनें। भीड़भाड़ में न जाएं। क्षेत्रीय सांसद विवेक नारायण शेजवलकर ने बुधवार को डबरा विकासखंड के सांसद आदर्श ग्राम सिहोना पहुँचकर ग्रामीणों से चर्चा करते हुए यह बात कही। उन्होंने गाँव के विकास के लिये सभी की सहभागिता पर जोर दिया। सांसद आदर्श ग्राम में ग्रामीणों से रूबरू होकर ग्राम विकास के अनेक कार्यों पर चर्चा कर निर्णय लिया गया। इस मौके पर पूर्व मंत्री  इमरती देवी, जिला पंचायत अध्यक्ष मनीषा भुजवल सिंह यादव, भाजपा के ग्रामीण अध्यक्ष  कौशल शर्मा, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत शिवम वर्मा, एसडीएम डबरा  राघवेन्द्र पाण्डेय, अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी विजय दुबे सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे। 

क्षेत्रीय सांसद श्री शेजवलकर ने बरसात से पूर्व ग्रामीण क्षेत्रों में जल संरक्षण एवं संवर्धन के कार्यों को प्रारंभ करने के निर्देश दिए। उन्होंने छछूंद नदी पर स्टॉप डैम निर्माण की कार्ययोजना तैयार करने को भी कहा। इसके साथ ही आदर्श ग्राम सिहोना में नवीन हाईस्कूल, वाचनालय की स्थापना हेतु भी प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए गए। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्र के मुख्य मार्ग एवं नालियों की नियमित सफाई व्यवस्था करने को कहा। क्षेत्रीय सांसद श्री शेजवलकर ने आदर्श ग्राम सिहोना में नल-जल योजना के माध्यम से गली, मोहल्लों में पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित करने को कहा । इस संबंध में सीईओ जनपद पंचायत डबरा एवं लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के अधिकारियों को समय-सीमा में नल-जल योजना प्रारंभ करने के निर्देश दिए गए। सांसद श्री शेजवलकर ने इस मौके पर मनरेगा योजना के अंतर्गत शासन की नवीन श्रम सिद्धी अभियान के तहत जॉब कार्ड का वितरण कर ग्रामवासियों को ग्राम में ही रोजगार उपलब्ध कराने पर जोर दिया। इसके साथ ही ग्रामवासियों को मास्क एवं आयुर्वेदिक काढ़ा चूर्ण का वितरण भी किया गया। 

पूर्व मंत्री इमरती देवी ने ग्रामीणों से चर्चा करते हुए कहा कि शासन द्वारा जरूरतमंदों के लिये हर प्रकार की सहूलियतें उपलब्ध कराई जा रही हैं। उचित मूल्य दुकानों के माध्यम से जिनके राशनकार्ड नहीं हैं, उनकी जांच कराकर पात्र परिवारों को राशन उपलब्ध कराने की व्यवस्था भी की जायेगी। उन्होंने ग्रामीणों से कहा कि कोरोना के संक्रमण से घबराएं नहीं, लेकिन सावधानी बरतें। हर जरूरतमंद को गाँव में ही काम मिले, इसके लिये भी शासन-प्रशासन कार्य कर रहा है। मनरेगा योजना के माध्यम से भी लोगों को काम उपलब्ध कराया जायेगा।  जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी  शिवम वर्मा ने इस मौके पर ग्रामीण क्षेत्र में जिला पंचायत के माध्यम से कराए जा रहे रोजगारोन्मुखी कार्यक्रमों की जानकारी दी। इसके साथ ही नोवेल कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम हेतु ग्रामीण क्षेत्र में किए जा रहे प्रयासों के संबंध में भी विस्तार से बताया। उन्होंने ग्रामीणों से कहा कि शासन के आदेशानुसार मध्यप्रदेश के ऐसे श्रमिक जो अन्य प्रदेशों में कार्य कर रहे थे, कोरोना के कारण अपने प्रदेश वापस आए हैं, उन सबका संबल योजना के तहत सर्वेक्षण एवं पंजीयन का कार्य कराया जा रहा है। पंजीयन के पश्चात इन सभी लोगों को भी स्वरोजगार हेतु सहयोग प्रदान किया जायेगा।