बरसात के पूर्व करें तालाब निर्माण के कार्य…
मनरेगा के कार्यों में तेजी लाएं : कलेक्टर

ग्वालियर। बरसात के आने से पहले  ग्रामीण क्षेत्रों में  तालाब निर्माण के कार्यों को  तेजी से पूरा करें। साथ ही  मनरेगा के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में अपने घरों को लौटकर आये श्रमिकों को अधिक से अधिक शामिल किया जाए। यह निर्देश जिले के कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह ने  शनिवार को ग्रामीण क्षेत्र के भितरवार जनपद क्षेत्र के भ्रमण के दौरान दिए।

कलेक्टर श्री सिंह ने कहा इस दौरान  सांखनी गांव में 24 लाख की लागत से बन रहे तालाब का निरीक्षण किया। उन्होंने सीईओ जनपद भितरवार और एसडीएम एस एस गौर को निर्देश दिए कि इन कामों में कोरोना की वजह से बाहर से महानगरो से गांव में लौटकर आये मजदूरों को प्राथमिकता से काम पर लगाया जाए। 

उनके  मजदूरी कार्ड बनवाकर रोजगार उपलब्ध कराया जाए। इस गांव में 325 श्रमिक कार्ड होने के बाद भी कम मजदूर काम  करते पाए जाने पर कलेक्टर ने जनपद सीईओ को अधिक श्रमिकों को काम देने के निदेश दिए। इसके लिये ग्रामीण क्षेत्र के श्रमिकों से संपर्क कर उन्हें रोजगार के संबंध में जानकारी भी दी जाए। 

केरूआ गांव में 17 लाख की लागत से निर्मित नवीन गौशाला का कलेक्टर श्री सिंह ने निरीक्षण किया। गौशाला में पानी की उपलब्धता के साथ-साथ बायोगैस की स्थापना के भी निर्देश दिए गए। गोहिंदा गांव में भृमण के दौरान कलेक्टर श्री सिंह ने तालाब निर्माण कार्य का भी निरीक्षण किया। 

उन्होंने 27 लाख की लागत से बन रहे  इस तालाब निर्माण का कार्य  बरसात से पहले पूरा करने के निर्देश दिए। साथ ही आसपास के जरूरतमन्द ग्रामीणों ओर बाहर से आये श्रमिकों को  बुलाकर उनसे काम कराने के निर्देश अधिकारियों को दिए। 

इस दौरान जिला पंचायत सीईओ शिवम वर्मा भी मौजूद रहे। इस अवसर पर  जिला पंचायत के सीईओ शिवम वर्मा ने बताया कि भितरवार जनपद में अभी तक  6332 श्रमिकों को मनरेगा के तहत रोजगार दिया गया है। वहीं पूरे जनपद क्षेत्र में 432 निर्माण कार्य गतिमान हैं।