दुकानों पर लगी भीड़...

रियायत मिलते ही उड़ायीं लॉकडाउन की धज्जियाँ


भोपाल। 45 दिन के लॉकडाउन के बाद आरेंज और ग्रीन जोन में शामिल जिलों में लॉकडाउन 3 के पहले दिन सोमवार को प्रशासन ने कुछ रियायत दी तो लोगों ने अनुशासन तोड़ दिया। बैंकों और बाजार में लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। लोगों ने शारीरिक दूरी का पालन भी नहीं किया।

गुना के सदर बाजार में तो जाम लग गया था। यहां कलेक्टर ने लोगों को हिदायत दी कि अगर यही हाल रहा तो लॉकडाउन में छूट नहीं दी जाएगी। ऐसी ही स्थिति सागर, अशोक नगर, विदिशा सहित अन्य जिलों के बाजारों में भी देखी गई।

गुना- शहर में सोमवार को 45 दिन के बाद बाजार में दुकानें खुली, तो सामान की खरीदी के लिए लोगों की भीड़ पड़ी। सदर बाजार में 20 मिनट तक जाम लगा रहा। वहीं मजदूरी की तलाश में खड़े लोगों ने भी जयस्तंभ चौराहे पर फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं कि या। वहीं गायत्री मंदिर पर सैकड़ों वाहन ट्रैफिक जाम में फंस गए।

दुकानों पर भी ग्राहकों ने फिजिकल डिस्टेसिंग का पालन नहीं कि या। नागरिक बैंक में भी लोगों की कतार लग गई थी। यहां भी शारीरिक दूरी का पालन नहीं किया गया। कलेक्टर एस. विश्वनाथन ने लोगों को हिदायत दी कि अगर फिजिकल डिस्टेसिंग का पालन नहीं किया तो रियासत में आगे छूट नहीं दी जाएगी।

अशोकनगरः शहर के बाजार में दुकानें खुलते ही लोगों की भीड़ लग गई। दुकानों पर शारीरिक दूरी का पालन नहीं करने पर प्रशासन ने 4 दुकानों को सील कर दिया और 46 दुकानदारों के चालान बनाए।

सागर- लॉकडाउन में सोमवार को सुबह 11 से शाम 5 बजे तक की छूट मिलते ही सबसे पहले शहरवासी बैंकों एवं एटीएम की ओर पैसे निकालने दौड़ पड़े। इस दौरान प्रशासन द्वारा जारी मास्क, एक गाड़ी में एक व्यक्ति के बैठने और शारीरिक दूरी बनाए रखने के नियमों की धज्जियां उड़ती नजर आईं। शहर के भीतर बाजार में खुली दुकानों को पुलिसकर्मियों ने बंद कराया।

विदिशा- शहर में किराना दुकानों के अलावा इलेक्ट्रॉनिक्स, इलेक्ट्रीकल्स दुकानें चार घंटे के लिए खुलीं तो कूलर पंखे खरीदने दुकानों पर भीड़ लग गई। ऐसे दुकानदारों पर प्रशासन ने कार्रवाई की। इलेक्ट्रॉनिक व इलेक्ट्रीकल्स के दुकानदारों ने सामान सड़क पर रख दिया था। इस दौरान ग्राहकों और दुकानदारों ने फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया। प्रशासन ने दो दुकानें सील कर दी।