मुख्यमंत्री के निर्देशों पर प्रवासी मजदूरों के आने का सिलसिला जारी है…
मुरैना जिला प्रशासन ने 2550 मजदूरों को बसों से रवाना कर गृह जिलों तक पहुंचाया
  

ग्वालियर। कोरोना वायरस की महामारी को दृष्टिगत रखते हुये प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान ने मध्यप्रदेश के प्रवासी मजदूरों, जो अन्य राज्यों के जिलों में फंसे हुये है उन्हें वापस अपने गृह जिले भिजवाने की मुहिम चलाई है। प्रदेश के मुख्यमंत्री के निर्देशों पर मध्यप्रदेश के प्रवासी मजदूरों के आने का सिलसिला मुरैना जिले में जारी है। गुरूवार को कलेक्टर प्रियंका दास के मार्गदर्शन में मुरैना जिले के बानमौर एवं अल्लावेली चैक प्वॉइंटों पर आने वाले मजदूरों को उनके गृह जिले में भेजने के प्रबंध किये हैं।

जानकारी के अनुसार 14 मई को अल्लावेली चेक प्वॉइंट पर 2300 मजदूर राजस्थान, उत्तरप्रदेश, दिल्ली, पंजाब, हरियाणा आदि प्रांतों से बसों एवं अन्य वाहनों से आये उन्हें बसों से उनके गृह जिलों के लिये रवाना कराया गया। वाहनों की व्यवस्था क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी एवं तहसीलदार द्वारा कराई गईं।

लगभग 40 बसों के माध्यम से इन मजदूरों को मध्यप्रदेश के छतरपुर, पन्ना, टीकमगढ़, दमोह एवं उत्तरप्रदेश के झांसी के अलावा अन्य जिलों के लिये भिजवाया। बसों में बिठाने से पहले सभी मजदूरों की थर्मल स्क्रीनिंग करके उन्हें भोजन के पैकेट एवं पेयजल पाउच निःशुल्क उपलब्ध कराये गये। 

इसी प्रकार  बानमौर चैक प्वॉइंट पर 250 मजदूर इटारसी, टीकमगढ़, झाबुआ से ट्रेन एवं बसों के माध्यम से आये। जिनका थर्मल स्क्रीनिंग एवं नाम, मोबाइल नम्बर, गांव का नाम नोट कर मुरैना जिले के अम्बाह, पोरसा, सबलगढ़, जौरा और कैलारस के लिये 4 बसों से रवाना किया। जिसमें 2 बस अम्बाह होते हुये पोरसा के लिये एवं 2 बस जौरा, कैलारस होते हुये सबगलढ़ के लिये भेंजी गई।