आखिर कब तक मूक पशु से तुम यूँ सहते जाओगे


आखिर कबतक यूँ मूक पशु से 
      सबकुछ सहते जाओगे, 
अब बनना है परशुराम सा 
      सबको सबक सिखाओगे I
प्रचंड अग्नि यदि शांत हुई 
      तो कायरता शीश झुकायेगी, 
पापी होगा वही  जिससे 
    न शस्त्र  उठाया जायेगा I
उठो !आज मानवता रोती 
       धर्म सिसकता राहों में 
पापी और दुराचारी से 
       पिट पिट जान गँवाता  है l
उठो !आज अन्याय, अनय 
      को रोको तुम, जो करे पाप 
व्यभिचार उन्हें टोको  तुम, 
     जहाँ भीरु बन धर्म स्वंय 
लज्जित हो, वहाँ प्रचंड 
   प्रतिशोध बनी ज्वाला की 
       लपटें  उठती हों , l
जाग्रत पौरुष नहीं किसी 
          जात  धर्म के वश में 
उद्दाम वेग बह उठता है 
      शूर, वीर, पीड़ित के उर  में  l
रक्त शीत  पड़  गया अगर 
        वह व्यक्ति स्वयं पापी है, 
अब उठो गर्म जोश से 
      प्रलय बाण छोडो तुम, 
है जहाँ कहीं भी पाप 
           उसे रोको तुम I
  याद करो !तुम, 
     परशुराम  के वंशज हो 
छोड़ो  कायरता, भीरूपन 
    लो उठा  आज लो खड्ग 
पापों से पृथिवी मुक्त करो, l
    तूफान उठेगा आज, प्रलय बाण फिर छूटेंगे , हर कोई बनेगा  
     परशुराम
  हथियार हाथ ले , हुँकार  भरें  और टूट पड़ें , है कौन भला 
       जो जीत सके हमको इस 
   संग्राम समर रणभेरी में 
         संग्राम समर रणभेरी में Il

         डॉ. ज्योति उपाध्याय