सरकार के मंत्री ने दिए संकेत...

महाराष्ट्र के कुछ इलाकों में बढ़ सकती है लॉकडाउन की अवधि


मुंबई l देश में कोरोनावायरस संक्रमितों की संख्या 3 हजार के पार पहुंच जाने के बाद कई राज्यों के प्रशासन ने संकेत दिए हैं कि अगर उनके राज्य में मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ और लोग लॉकडाउन का उल्लंघन करते रहे तो उन्हें अपने राज्य में लॉकडॉउन की अवधि को बढ़ाने का कठोर फैसला लेना पड़ सकता है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बृहस्पतिवार को मुख्यमंत्रियों से कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिये अगले कुछ सप्ताह तक लोगों की जांच करने, संक्रमितों का पता लगाने, उन्हें पृथक रखने जैसे उपायों पर ध्यान देने को कहा ताकि जीवन का नुकसान कम से कम हो, यह सुनिश्चित किया जा सके.

उन्होंने लॉकडाउन समाप्त होने के बाद सड़कों पर लोगों की आवाजाही ‘‘क्रमबद्ध ढंग'' से सुनिश्चित करने के बारे में राज्यों से साझा रणनीति बनाने को भी कहा था. राज्य सरकारों द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों के अनुसार, कोविड-19 से हुई मौतों की संख्या शनिवार को 100 के करीब पहुंच गई और संक्रमितों की संख्या 3,000 के पार चली गई. महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने शनिवार को कहा कि कोरोना वायरस को रोकने के लिये देशभर में लागू किए लॉकडाउन को प्रदेश सरकार चरणबद्ध तरीके से हटाने पर विचार कर रही है.

टोपे ने एक सीधे वेब प्रसारण में कहा, “इस बात पर चर्चा चल रही है कि क्या चरणबद्ध तरीके से लॉकडाउन में छूट दी जा सकती है. इस दौरान कड़े नियमों का पालन किया जाएगा.”इससे पहले उन्होंने कहा था कि प्रदेश के लोग अगर अनुशासन में नहीं रहेंगे और कोविड-19 के मामले बढ़े तो महाराष्ट्र सरकार 15 अप्रैल से लॉकडाउन को नहीं हटाएगी.राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन 14 तारीख को खत्म हो रहा है.

इस बीच, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि राज्य में लॉकडाउन 14 अप्रैल के बाद हटेगा या नहीं, यह लोगों द्वारा सरकारी निर्देशों के अनुपालन पर निर्भर करेगा. उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में राजनीतिक, धार्मिक या खेलकूद से जुड़े कार्यक्रमों की अगले नोटिस तक इजाजत नहीं होगी ताकि कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर लोगों का आपस में मिलना-जुलना न हो.

महाराष्ट्र में संक्रमण के मामलों में तीव्र वृद्धि दर्ज की गई और वहां यह संख्या 537 पहुंच गई है, जबकि राज्य में अब तक 26 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं, राजस्थान, असम, ओडिशा, आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश और गुजरात में भी शुक्रवार रात से कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में वृद्धि दर्ज की गई.