शत्रु ये अदृश्य है विनाश इसका लक्ष्य है, कर न भूल तू ज़रा भी न फिसल...