पुलिस अधिकारी ने बताया कि प्रदर्शन के दौरान...

CAA को लेकर झड़प के दौरान हेड कॉन्स्टेबल समेत 4  की मौत


नई दिल्ली: उत्तर पूर्वी दिल्ली में संशोधित नागरिकता कानून को लेकर झड़प के दौरान सोमवार को दिल्ली पुलिस के एक हेड कॉन्स्टेबल समेत चार लोगों की मौत हो गई। बाकी दो मृतकों के नाम फुरकान और शाहिद है। एक मृतक की पहचान नहीं हो पाई है। इन चारों को गुरु तेग बहादुर अस्पताल ले जाया गया था। बता दें कि मौत का आंकड़ा बढ़ सकता है। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल (42) सहायक पुलिस आयुक्त, गोकलपुरी के कार्यालय से जुड़े हुए थे। पुलिस अधिकारी ने बताया कि प्रदर्शन के दौरान पुलिस कर्मियों पर किए गए पथराव में वह घायल हो गए थे। अधिकारी ने बताया कि झड़प में करीब 40 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं।

उन्होंने बताया कि लाल मूल रूप से राजस्थान के सीकर के रहने वाले थे और 1998 में दिल्ली पुलिस में कॉन्स्टेबल के पद पर भर्ती हुए थे। उनके परिवार में पत्नी, दो बेटियां और एक बेटा है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लाल के निधन पर दुख जताया और राष्ट्रीय राजधानी में शांति का आह्वान किया। उन्होंने एक ट्वीट में कहा, “पुलिस हेड कॉन्स्टेबल की मौत बेहद दुःखदायी है। वो भी हम सब में से एक थे। कृपया हिंसा त्याग दीजिए। इस से किसी का फ़ायदा नहीं। शांति से ही सभी समस्याओं का हल निकलेगा।”

सोमवार को जारी झड़पों के दौरान शाहदरा के पुलिस उपायुक्त अमित शर्मा घायल हो गए। 2010 बैच के आईपीएस अधिकारी के सिर और हाथ में चोट लगी है। उन्हें पटपड़गंज के मैक्स अस्पताल में भर्ती कराया गया और वह गहन चिकित्सा कक्ष (आईसीयू) में है। प्रदर्शनकारियों ने अधिकारी के वाहन को भी आग लगा दी। सूत्रों ने बताया कि शर्मा बेहोश है और चिकित्सक उनका सीटी स्कैन करेंगे।

कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि दिल्ली में पूरे दिन हिंसा हुई और उन्होंने दिल्ली वालों से शांति बनाए रखने की अपील करते हुए कहा कि हिंसा से सिर्फ आम आदमी और देश का नुकसान होगा। प्रियंका गांधी ने एक ट्वीट में कहा, “देश की राजधानी दिल्ली में आज पूरा दिन हिंसा से भरा रहा। हिंसा से सिर्फ और सिर्फ आम जनता और देश का नुक़सान होता है। इसे रोकने की ज़िम्मेदारी हम सबकी है।” कांग्रेस महासचिव ने कहा, “महात्मा गांधी का देश शांति का देश है। सभी दिल्लीवासियों से मैं शांति की अपील करती हूं और कांग्रेस कार्यकर्ताओं से अनुरोध करती हूँ कि वे शान्ति और अमन बनाए रखने के लिए प्रयास करें।”

दिल्ली के जाफराबाद और मौजपुर में सोमवार को सीएए का समर्थन करने वाले और विरोध करने वाले समूहों के बीच संघर्ष हो गया और प्रदर्शनकारियों ने कई घरों, दुकानों तथा वाहनों में आग लगा दी और एक-दूसरे पर पथराव किया। हिंसा में दिल्ली पुलिस के एक हेड कांस्टेबल की मृत्यु हो गयी और एक पुलिस उपायुक्त घायल हो गये। राजधानी के चांदबाग और भजनपुरा में भी संघर्ष होने की खबरें है। दिल्ली में हिंसक झड़पों का आज दूसरा दिन है।