नागरिकों की सहभागिता भी बढ़ी…

शहर को स्वच्छ बनाने के लिए किए जा रहे हैं बेहतर प्रयास


ग्वालियर l  ग्वालियर को स्वच्छता रैंकिंग में उच्च स्थान दिलाने के लिए शासन-प्रशासन के साथ-साथ आम जनों की सक्रिय भागीदारी और सहयोग भी मिल रहा है। शहर में स्वच्छता के प्रति जन जागृति का माहौल भी बना है। निगम के माध्यम से शहर को स्वच्छ व सुंदर बनाने के लिए किए जा रहे प्रयासों से लोगो के व्यवहार में भी परिवर्तन आया है।

शहर की दीवारों व फ्लाईओवर पर सुंदर चित्रकारी के माध्यम से स्वच्छता का संदेश दिया गया है। डिवाइडरों को रंग-रोगन कर सुंदर बनाया गया है। इसके साथ ही शहर के अनेक कचरा ठियों को व्यवस्थित कर सेल्फी प्वॉइंट के रूप में तैयार किया गया है।

शहर की प्रमुख सड़कों पर मैकेनाईज्ड स्वीपिंग मशीन के माध्यम से सफाई का कार्य किया जा रहा है। डोर-टू-डोर कचरा संग्रहण कर सूखा एवं गीला कचरा पृथक-पृथक एकत्रित किया जाकर ट्रांसफर स्टेशन के माध्यम से लैंड फिल साइट पर भेजा जा रहा है। कचरे से जैविक खाद, फियूल आदि उत्पाद बनाए जा रहे हैं।

शहर में प्लास्टिक व पॉलीथिन को कचरे से अलग कर बामोर प्लांट पर सड़क निर्माण व पेवर ब्लॉक बनाने के लिए पुर्नउपयोग भी किया जा रहा है। शहर में पॉलीथिन के विरूद्ध भी विशेष अभियान चलाकर कार्य किया जा रहा है।

शहर से निकलने वाले भवन निर्माण के मलबे को भी नगर निगम द्वारा पुर्नउपयोग बेहतर तरीके से किया जा रहा है। निगम द्वारा नयागांव स्थित प्लांट पर पेवर ब्लॉक एवं फिलिंग मटेरियल बनाया जा रहा है।
सीवर के पानी को ट्रीटेड कर उसका पुर्नउपयोग करने का कार्य भी किया गया है।

ट्रीटेड वाटर को बैजाताल में एकत्र कर नौकायन भी प्रारंभ किया गया है। नौकायन से जहां शहर के लोगों को नई सुविधाएं उपलब्ध हुई हैं वहीं निगम को आर्थिक आय भी प्राप्त होने लगी है। इसके साथ ही ट्रीटेड पानी से शहर के डिवाइडरों, चौराहों की धुलाई के साथ-साथ पेड़ों को पानी देने का कार्य भी निगम ने प्रारंभ किया है।

शहरवासी स्वच्छता में अपनी भागीदारी करें, इसके लिए ऑनलाइन फीडबैक का भी कार्य किया जा रहा है। इसके लिए स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 एप के माध्यम से स्वच्छता से संबंधित 7 सवालों के जवाब जनता के माध्यम से ऑनलाइन दर्ज कराए जा रहे हैं। ग्वालियर में किए जा रहे प्रयास सार्थक होंगे और हमारा ग्वालियर भी स्वच्छता रैंकिंग में अच्छा स्थान पाएगा।

स्वच्छता के लिए न केवल नगर निगम बल्कि कलेक्टर अनुराग चौधरी ने जिले के सभी जिला अधिकारियों को भी एक – एक वार्ड की जिम्मेदारी देकर स्वच्छता के कार्य की मॉनीटरिंग का कार्य सौंपा है। जिला अधिकारी भी प्रतिदिन भ्रमण कर स्वच्छता के कार्य को और बेहतर करने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं।