सावरकर पर फिर बवाल

कांग्रेस के दिमाग में गंदगी,भाजपा ने बताया हिंदुत्व का अपमान : राउत



महाराष्ट्र l कांग्रेस के प्रमुख संगठन सेवा दल की किताब में वीर सावरकर पर किए दावे पर सियासी संग्राम छिड़ गया है। महाराष्ट्र में सहयोगी शिवसेना और भाजपा ने कांग्रेस पर पलटवार किया है। शिवसेना ने कहा कि सावरकर पर सवाल उठाना दिखाता है कि कांग्रेस के दिमाग मेंगंदगीभरी है। 

वहीं, भाजपा ने सेवा दल की हिंदुत्व विचारधारा पर टिप्पणी को अपमानजनक करार देते हुए माफी मांगने की मांग की है। शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा, सावरकर महान थे और महान रहेंगे। जो लोग उनकी देशभक्ति पर सवाल उठा रहे हैं और उनकी आलोचना कर रहे हैं, उनके दिमाग में गंदगी भरी है। 

वहीं, भाजपा महासचिव अनिल जैन ने कहा, दुनिया कांग्रेस नेताओं के कई रिश्तों के बारे में जानती हैं, लेकिन वह किसी पर कीचड़ उछालना नहीं चाहते। कांग्रेस में किसी ने भी सावरकर की तरह प्रताड़ना नहीं झेली। हिंदुत्व विचारधारा का अपमान करने के लिए कांग्रेस और कितना नीचे गिरेगी। महाराष्ट्र भाजपा के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने कहा कि किताब मेंविकृतसामग्री के लिए कांग्रेस को माफी मांगनी चाहिए।

कब तक अपमान
महाराष्ट्र में सत्ताधारी गठबंधन में शामिल कांग्रेस को मराठी लोगों और सभी राष्ट्रभक्तों को जवाब देना होगा कि वीर सावरकर के बलिदानों का अपमान कब तक जारी रहेगा। कांग्रेस वीर सावरकर के अपमान को जन्मसिद्ध अधिकार क्यों मानती है।

किताब पर लगे प्रतिबंध
कांग्रेस ने फिर विकृत मानसिकता का परिचय दिया है। हिंदू हृदय सम्राट बाला साहेब ठाकरे इस किताब पर कट्टर शैली में प्रतिक्रिया देते, लेकिन आज ऐसी उम्मीद नहीं की जा सकती। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे किताब पर तत्काल प्रतिबंध लगाएं।

रुख पर कायम सेवा दल
इस बीच, कांग्रेस सेवा दल के प्रमुख लालजी देसाई ने कहा, संगठन की राय जो पहले थी, वही अब भी है। दुनिया जानती है कि सावरकर ने अंग्रेजों से 11 बार माफी मांगी। इस बात को लेकर हमें दिक्कत है। हमने एक साल पहले राष्ट्रीय अधिवेशन में यह किताब निकाली थी। हमनेफ्रीडम एट मिडनाइटमें जो लिखा है, उसी का हवाला दिया।

इसलिए किताब पर मचा बवाल
कांग्रेस सेवादल की ओर सेवीर सावरकर कितने वीरपत्रिका भोपाल में अभ्यास शिविर के दौरान बांटी गई थी। इसमें दावा किया गया कि सावरकर के महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे से संबंध थे।