जून-जुलाई में अफसरों का अपर मुख्य सचिव बनना हो जाएगा शुरू…

सात अफसर नए साल में बनेंगे प्रमुख सचिव


भोपाल। 25 साल की सर्विस में प्रवेश के साथ ही 1996 बैच के सात आईएएस अफसरों के प्रमुख सचिव बनने का रास्ता खुल गया है। केंद्र सरकार से अनुमति मिलते ही इन्हें पदोन्नत करने की कार्रवाई शुरू होगी। वहीं, केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर पदस्थ 1995 बैच के एक मात्र अधिकारी सचिन सिन्हा को प्रोफार्मा पदोन्नति दी जाएगी। जून-जुलाई 2020 में 1990 बैच के अधिकारी अपर मुख्य सचिव बनना शुरू हो जाएंगे।

सामान्य प्रशासन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि 1996 बैच के अफसर एक जनवरी 2020 को सेवा के 25वें साल में प्रवेश कर जाएंगे। नियमानुसार 25 साल की सेवा होने पर आईएएस अधिकारियों को प्रमुख सचिव बनाया जा सकता है, लेकिन इनके अभी 24 साल पूरे हुए हैं और 25वें साल में प्रवेश किया है।

इस वजह से पदोन्न्ति प्रक्रिया नहीं हो पाई। विभाग ने केंद्र सरकार से इसको लेकर परामर्श मांगा है, लेकिन अभी तक स्थिति साफ नहीं हो पाई है। बताया जा रहा है कि नए साल में 1996 बैच के अधिकारियों को प्रमुख सचिव पद पर पदोन्नत कर दिया जाएगा। इसमें डीपी आहूजा, नीतेश कुमार व्यास, फैज अहमद किदवई, संजीव कुमार झा, अमित राठौर, उमाकांत उमराव और केरालिन खोंगवार देशमुख शामिल हैं।

इस साल प्रदेश में पदस्थ पांच मुख्य सचिव वेतनमान के अफसर सेवानिवृत्त हो जाएंगे। इनके स्थान पर 1990 बैच के अफसर पदोन्नत होकर अपर मुख्य सचिव बनेंगे, लेकिन दो पद जेएन कंसोटिया और विनोद कुमार को अपर मुख्य सचिव बनाए जाने की वजह से कम हो जाएंगे।

सूत्रों का कहना है कि 1990 बैच के डॉ. राजेश राजौरा, एसएन मिश्रा और अश्विन कुमार राय अपर मुख्य सचिव बनेंगे। यदि 1989 बैच का कोई अधिकारी  केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर जाता है तो प्रमुख सचिव लोक निर्माण मलय श्रीवास्तव भी पदोन्नत होकर अपर मुख्य सचिव बन जाएंगे।