103 अमृत सरोवरों का लोकार्पण तथा संजीवनी केंद्रों का भी किया शिलान्यास…

मुरैना में 3 दिवसीय कृषि मेला और प्रदर्शनी का CM ने किया शुभारंभ

मुरैना। केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय द्वारा मध्य प्रदेश शासन एवं जिला प्रशासन के सहयोग से मुरैना में तीन दिवसीय वृहद कृषि मेला एवं प्रदर्शनी का शुभारंभ शुक्रवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने किया। केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री तथा क्षेत्रीय सांसद नरेंद्र सिंह तोमर अध्यक्षता की। इस आयोजन में चंबल-ग्वालियर अंचल के किसान शामिल हुये। किसानों के मार्गदर्शन के लिए प्रतिदिनविभिन्न महत्वपूर्ण विषयों पर 12-12 सत्र अलग-अलग तथा 4-4 सत्र सामूहिक होंगे, जिनमें देशभर के कृषि विशेषज्ञ जानकारी व प्रेजेन्टेशन देंगे। इस अवसर पर मुख्यमंत्री द्वारा 103 अमृत सरोवरों का लोकार्पण तथा संजीवनी केंद्रों का शिलान्यास भी किया गया। साथ ही स्टेडियम में इंडोर-आउटडोर सभी सुविधाओं के लिए 10 करोड़ रुपये की लागत से होने वाले कार्यों का भूमिपूजन भी किया। 

मेले में दूसरे दिन आज शनिवार को गुजरात के राज्यपाल आचार्य देवव्रत तथा केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया व मप्र के मंत्रीगण भी शामिल होंगे। केंद्रीय मंत्री श्री तोमर ने बताया कि ग्वालियर-चंबल अंचल को कृषि क्षेत्र में उन्नत व अग्रणी बनाने के लिए कृषि मेला एवं प्रदर्शनी का आयोजन किया जा रहा है। इसमें कृषि विश्वविद्यालयों, कृषि आंचलिक केंद्रों के वैज्ञानिक, कृषि विभाग के अधिकारियों-कर्मचारियों के साथ ही कृषि से जुड़ी सरकारी-गैर सरकारी विभिन्न संस्थाओं के प्रतिनिधि भी शामिल होकर किसानों को मार्गदर्शन प्रदान करेंगे। इस आयोजन की यह विशेषता है कि इसमें कृषि की नई टेक्नालॉजी और आधुनिक कृषि को अपनाने में रूचि रखने वाले किसानों का प्रतिभाग बड़ी संख्या में हो रहा है। 

सभी जागरूक किसानों को उन्नत कृषि उत्पादन, नई कृषि टेनालॉजी तथा उन्नत कृषि यंत्रों को अपनाने और उनके उपयोग पर प्रशिक्षण दिया जाएगा ताकि वे इस आयोजन से सीखकर अपनी खेती को और अधिक लाभकारी बना सकें। उन्होंने बताया कि कृषि प्रदर्शनी का आयोजन भी होगा, जिसमें केंद्र एवं राज्य सरकार द्वारा किसानों के लिए चलाई जा रही योजनाओं की जानकारी स्टालों के माध्यम से प्रदान की जाएगी, साथ ही निजी क्षेत्र की कृषि के विभिन्न आदानों की आपूर्ति से संबंधित कंपनियां/संस्थाएं भी उत्पाद स्टालों के माध्यम से प्रदर्शित कर रही हैं। प्रदर्शनी में 132 स्टाल किसानों को अद्यतन जानकारी के लिए लगाए गए हैं। ऐसे अनेक उपकरणों व पेस्टीसाइट्स का भी प्रदर्शन होगा, जिनसे खेती में लागत घटाई जा सकती है तथा प्रगतिशील किसानों की ससेस स्टोरीज भी कार्यक्रम के दौरान देखने को मिलेगी। 

श्री तोमर ने बताया कि मेले में किसानों को प्रशिक्षण दो सत्रों में दिया जाएगा। दोपहर पूर्व किसानों को सामूहिक रूप से, प्राकृतिक खेती के महत्व व आवश्यकता, जैविक खेती अपनाने, सरसों की उच्च उपज की किस्मों का उपयोग एवं उत्पादकता में वृद्धि, साइल हेल्थ कार्ड व खेती में मिट्टी के परीक्षण की महत्ता, खेती को सुरक्षित करने में फसल बीमा का महत्व, उद्यानिकी के अंतर्गत सब्जी, फलों, मसालों की उन्नत किस्मों की खेती, बीज उत्पादन, मिलेट की उन्नत किस्मों का उत्पादन तथा उपयोग, मूल्य संवर्धन, रोजगार सृजन, उन्नत पशुपालन, डेयरी विकास, मत्स्य पालन, पशु रोगों की रोकथाम सहित अन्य विषयों पर तीनों दिन जानकारी दी जाएगी।