अनेक प्रकार की तकनीकी खामियों के चलते…  

एम शिक्षा मित्र  प्लेटफार्म से ई अटेंडेंस लगाने में आ रही है परेशानी !

 मुरैना l एम शिक्षा मित्रसे ई अटेंडेंस लगाने का आदेश शासन स्तर से जारी कर प्रशासन द्वारा उसका पालन कराने पर जोर दिया जा रहा है जबकि यह पद्धति दोषपूर्ण है एवं अनेक प्रकार की तकनीकी खामियों से भरी है l उदाहरण के तौर पर शासकीय उत्कृष्ट माध्यमिक विद्यालय एसएएफ मुरैना के विद्यालय के स्टाफ एवं छात्रों की एम शिक्षा मित्र प्लेटफार्म से  ई अटेंडेंस लगाने में आ रही अनेक प्रकार की व्यवहारिक एवं तकनीकी खामियां बताते हैं l 

विद्यालय के संस्था प्रधान सुबोध कुमार धाकरे अभी वर्तमान मैं बानमोर संकुल केंद्र के शासकीय माध्यमिक विद्यालय पहाड़ी से स्थानांतरण हो कर उपस्थित हुए है उनके द्वारा एम शिक्षा मित्र प्लेटफार्म से ई अटेंडेंस लगाने पर उनकी स्वयं की उपस्थिति लग रही है और छात्रों की उपस्थिति के बारे में शासकीय उत्कृष्ट माध्यमिक विद्यालय एसएएफ के छात्रों के नाम नहीं आ रहे हैं शासकीय माध्यमिक विद्यालय पहाड़ी के छात्रों के नाम शो हो रहे हैं l  जबकी पूर्व प्रभारी प्रधान अध्यापक राधेश्याम परमार द्वारा ई अटेंडेंस लगाने पर उनकी खुद की हाजिरी नहीं लग रही है उनका नाम नहीं आ रहा है और विद्यालय के शिक्षकों के नाम आ रहे हैं l 

 जबकि छात्रों की उपस्थिति लगाने पर कक्षा 6 में 79 छात्र दर्ज है उनकी जगह 89 छात्र दिख रहे हैं अब उपस्थिति हाजिरी कैसे लगेगी कुल मिलाकर शासन बेवजह शिक्षकों को परेशान करने के लिए ऐसे दोषपूर्ण प्रयोग करने के आदेश जारी करके बेवजह की समस्या पैदा कर रहा है इसका कोई मतलब नहीं है अगर ई अटेंडेंस चालू करना है तो शासन पहले समस्त विभागो में चालू करे, स्कूल शिक्षा विभाग में ही क्यों? बेवजह का काम शिक्षको एवं प्रधान आदियापको पर थोपा जा रहा है जैसे किसी विद्यालय में २०० से ३०० छात्र उपस्थिति मोबाइल से लगाने पर घंटों का समय लगेगा, जबकि रजिस्टर में उपस्थिति लगाने पर कक्षावार १०_१० मिनट का समय लगेगा।

अतः या पद्धति दोष पूर्ण है शासन प्रशासन ई अटेंडेंस वापस ले इसे प्रतिवर्स बार बार लागू करने के लिए जबरदस्ती तरीके से शिक्षको के ऊपर थोपा जाता हैं।प्रांतीय शिक्षक संघ जिला मुरैना द्वारा प्रदेश के मुख्यमंत्री नाम ज्ञापन कलेक्टर महोदय मुरैना को    दिनाक २१/११/२००२२ को ४ बजे न्यू कलेक्टेड भवन पर विरोध कर ज्ञापन शोपेगा।