6 प्रतियोगिताओं का हुआ आयोजन…

युवा उत्सव के दूसरे दिन छात्रों ने स्किट के माध्यम से बताया शिक्षा का महत्व

ग्वालियर। जीवाजी विश्वविद्यालय के गालव सभागार में तीन दिवसीय अंतरजिला विवि स्तरीय युवा उत्सव के दूसरे दिन 6 प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। इसमें एकांकी, स्किट, माईम, मिमिक्री, क्ले मॉडलिंग, रंगोली शामिल रही। कार्यक्रम में 8 जिलों की टीमों ने भाग लिया। इसमें शामिल टीमों ने एकांकी में समाज में पुरानी परंपराओं को बनाए रखना व शिक्षा का महत्व पर प्रस्तुति दी।कार्यक्रम में एकांकी की शुरूआत 'आरंभ' से हुई इसमें समाज में किन्नरों के साथ पढाई,शिक्षा,नौकरी में उनके साथ होने वाले भेदभाव को दिखाया गया। 'दीपदान'में मातृभूमि के लिए अपने बच्चे का बलिदान,टेसू व झेंझी के विवाह के माध्यम से पुरानी परंपराओं को बनाए रखना,चीफ की दावत पर प्रस्तुति दी गई।

रंगोली में छात्राओं ने आजादी का अमृत महोत्सव, राष्ट्रीय पक्षी, स्टॉप रेप पर रंगोली बनाई। क्ले मॉडलिंग में भारत के त्यौहारों को दिखाया गया। स्किट में शिक्षा के महत्व को बताया गया कि नागरिकों को शिक्षित होना चाहिए। माईम में छात्रों ने 'नशा नाश की जड़' है पर प्रस्तुति दी समाज को कैसे नशा मुक्त किया जाए।इस अवसर पर अधिष्ठाता छात्र कल्याण प्रो.एसके द्विवेदी,डॉ.सीमा शर्मा,डॉ.वंदना बंसल, डॉ.रिचा सक्सेना, सुनीता गुर्जर, डॉ.साधना दीक्षित, डॉ.रंजना पाठक एवं निर्णायक के रूप में अनिल तिवारी, अशोक आनंद, वसुंधरा व्यास, कृष्णकांत शर्मा सहित छात्र एवं छात्राएं उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन आदर्श व आभार व्यक्त प्रो.एसके द्विवेदी ने किया।

युवा उत्सव में कल : युवा उत्सव में शनिवार को 7 प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाएगा।इसमें एकल गायन शास्त्रीय, एकल गायन सुगम,समूह गायन भारतीय,शास्त्रीय एकल वादन(परकुशन),शास्त्रीय एकल वादन (नॉन-परकुशन) कार्टूनिंग, पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिताएं होंगी।प्रतियोगिताएं सुबह 10ः30 बजे से शुरू होंगी।