वार्ता में उठेगा रोहिंग्या का मुद्दा...

आघात करने वाली शक्तियों से सचेत रहने की जरूरत : पीएम मोदी


नई दिल्ली l प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना के साथ बैठक के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में शामिल हुए। यहां दोनों नेताओं ने भारत-बांग्लादेश के बीच लगातार गहरे होते रिश्तों पर एक-दूसरे को बधाई दी और कई समझौतों पर हस्ताक्षर किए। पीएम मोदी ने कहा कि दोनों देशों का द्विपक्षीय सहयोग काफी ज्यादा है। उम्मीद है कि परमाणु क्षेत्र में भी दोनों देश सहयोग बढ़ाएंगे। मोदी ने बांग्लादेश को आगाह करते हुए कहा कि वे आघात करने वाली शक्तियों से सावधान रहें।शेख हसीना ने कहा, आत्मनिर्भर भारत की दिशा में भारत आगे बढ़ रहा है। मैं अगले 25 वर्षों के लिए अमृत काल की नई सुबह के लिए भारत को अपनी शुभकामनाएं देती हूं। उन्होंने कहा, मैं इस अवसर पर भारत सरकार को आजादी का अमृत महोत्सव के सफल समापन की भी बधाई देना चाहती हूं, जो भारत की आजादी के 75 वें वर्ष को चिह्नित करने के लिए वर्ष भर चलने वाला उत्सव है। पीएम मोदी के बाद शेख हसीना ने भी प्रेसवार्ता को संबोधित किया।

 उन्होंने कहा, मैं भारत लगभग 3 साल के बाद आ रही हूं, मैं भारत का धन्यवाद करती हूं और हमारे बीच आगे एक सकारात्मक प्रस्तावों की अपेक्षा करती हूं। प्रधानमंंत्री ने कहा, आज हमने कुशियारा नदी से जल बंटवारे पर एक महत्वपूर्ण समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। इससे भारत में दक्षिणी असम और बांग्लादेश में सिलहट क्षेत्र को लाभ होगा। ऐसी 54 नदियाँ हैं जो भारत-बांग्लादेश सीमा से गुजरती हैं और सदियों से दोनों देशों के लोगों की आजीविका से जुड़ी रही हैं। ये नदियाँ, इनके बारे में लोक-कहानियां, लोक-गीत, हमारी साझा सांस्कृतिक विरासत के भी साक्षी रहे हैं। पीएम मोदी ने कहा, आज बांग्लादेश भारत का सबसे बड़ा साझेदार है। उन्होंने कहा, बांग्लादेश हमारा बड़ा व्यापारिक पार्टनर है। हमारे घनिष्ठ सांस्कृतिक  संबंधों में भी निरंतर वृद्धि हुई है। हमने आईटी, अंतरिक्ष और न्यूक्लियर एनर्जी जैसे सेक्टर में भी सहयोग बढ़ाने का निश्चय किया है, जो हमारी युवा पीढ़ियों के लिए रूचि रखते हैं। हम जलवायु परिवर्तन और सुंदरबन जैसी साझा धरोहर को संरक्षित रखने पर भी सहयोग जारी रखेंगे।

 पिछले वर्ष हमने बांग्लादेश की स्वतंत्रता की 50वीं वर्षगांठ, हमारे रणनीतिक संबंधों की स्वर्ण जयंती, और बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान की जन्म शताब्दी को एक साथ मनाया था। पिछले वर्ष 6 दिसंबर को हमने पहला ‘मैत्री दिवस’ भी साथ मिलकर पूरी दुनिया में मनाया। पीएम मोदी ने कहा, प्रधानमंत्री शेख हसीना की यात्रा हमारी आज़ादी के अमृत महोत्सव के दौरान हो रही है। मुझे पूरा विश्वास है कि अगले 25 सालों के अमृत काल में भारत-बांग्लोदश मित्रता नई ऊँचाइयाँ छूएगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना के बीच बैठक शुरू हो गई है। इस बैठक में दोनों नेताओं के बीच कई मुद्दों पर चर्चा संभव है। भारत और बांग्लादेश के बीच सात समझौतों पर हस्ताक्षर भी किए जाएंगे। 

वार्ता में उठेगा रोहिंग्या का मुद्दा

बांग्लादेश ने रोहिंग्या मामले में पीएम मोदी से व्यक्तिगत स्तर पर पहल करने की उम्मीद जताई थी। अब द्विपक्षीय वार्ता में शेख हसीना रोहिंग्या की घर वापसी के लिए भारत से अनुरोध करेंगी। मानवीय आधार पर रोहिंग्या मुसलमानों की मदद करना बांग्लादेश के लिए अब सिरदर्द बन गया है। करीब डेढ़ लाख रोहिंग्या शरणार्थी इस समय बांग्लादेश में हैं। इनमें से कई गैरकानूनी गतिविधियों में लिप्त  है। दोनों देशों का जोर आपसी व्यापार बढ़ाने के लिए जल, रेल और हवाई संपर्क बढ़ाने पर है। बीते पांच साल में द्विपक्षीय व्यापार में सौ फीसदी की वृद्धि हुई है और यह नौ अरब से 18 अरब डॉलर यानी करीब 1.42 लाख करोड़ रुपये पहुंच गया है। परिवहन संपर्क बढ़ा कर भारत की योजना अगले दो-तीन वर्षों में निर्यात को 30 अरब डॉलर तक पहुंचाने की है।