तीन बार अखिल भारतीय देव संस्कृति अवार्ड्स में अवार्ड जीत कर…

डॉ. दीप्ति ने राष्ट्रीय स्तर पर किया ग्वालियर का नाम रोशन


ग्वालियर। देव संस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज हरिद्वार द्वारा देव संस्कृति अवार्ड्स के अंतर्गत ऑनलाइन विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया था। जिसका हाल ही में परिणाम घोषित किया गया है जिसमें ग्वालियर की शासकीय उत्कृष्ट उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मुरार की शिक्षिका एवं साहित्यकार डॉ. दीप्ति गौड़ ने पर्यावरण संरक्षण एवं संवर्द्धन में हमारी भूमिका और यज्ञ का दार्शनिक, वैज्ञानिक, व्यावहारिक स्वरूप थीम पर आधारित अखिल भारतीय स्तर की निबंध लेखन प्रतियोगिता में प्रथम स्थान, स्लोगन और स्वरचित काव्य पाठ में तृतीय स्थान प्राप्त कर तीन देव संस्कृति अवार्ड पर अपना कब्जा जमा कर ग्वालियर का परचम लहराया है। 

उनकी इस उपलब्धि पर डॉ. चिन्मय पंड्या प्रति कुलपति देव संस्कृति विश्वविद्यालय एवं डॉ. शिव नारायण प्रसाद विभागाध्यक्ष सांस्कृतिक प्रकोष्ठ द्वारा शुभकामनाओं सहित प्रशस्ति पत्र द्वारा सम्मानित किया गया है। गौरतलब है डॉ. दीप्ति अनेक राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पुरस्कारों की स्वामिनी हैं। अपने काव्य पाठ और उत्कृष्ट साहित्य साधना के आधार पर उन्होंने 7 विश्व रिकॉर्ड में अपनी सहभागिता दर्ज कराई है। देव संस्कृति अवॉर्ड्स विभिन्न आयु वर्ग में निहित मौलिक प्रतिभा को परिष्कृत रूप में विविध रचनात्मक अभिव्यक्तियों के माध्यम से जन सामान्य के सम्मुख लाकर सकारात्मक बदलाव की प्रेरणा प्रदान करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम बनने का प्रयास है। 

डॉ. दीप्ति की इस उपलब्धि पर डॉ. दीपक पांडे संयुक्त संचालक शिक्षा संभाग ग्वालियर, अजय कटियार जिला शिक्षा अधिकारी ग्वालियर, ए के दीक्षित एडीपीसी, पंकज पाठक एपीसी, रेखा मुले प्राचार्य, पी. बी. श्रीवास्तव व्याख्याता डॉ. राजरानी शर्मा , मेजर डॉ. ज्योति उपाध्याय प्राध्यापक, डॉ. रवि शर्मा प्राध्यापक, डॉ. विदुषी शर्मा ओएसडी इग्नू, दीपक गांधी, राजेश भार्गव, चंद्रपाल पुनिया ओसका हरियाणा, डॉ. वंदना भूपेंद्र प्रेमी समाजसेवी,सीता पाणिग्रही, आशा सिंह समाजसेवी सहित समस्त शिक्षक साथियों ने अपनी शुभकामनाएं प्रेषित की हैं।