विवादित पोस्ट के बाद प्रदेश के गृह मंत्री ने जताई गहरी नाराजगी…

"काली" की डायरेक्टर लीना मणिमेकलई के के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी

भोपाल। फिल्म निर्माता लीना मणिमेकलई की डॉक्यूमेंट्री में मां काली के पोस्टर का विवाद थमा नहीं है कि उन्होंने एक और विवादित पोस्ट की है। इससे पूरे देश में और आक्रोश व्याप्त हो गया है। नई पोस्ट में शिव व पार्वती को सिगरेट पीते दिखाया गया है। इस मामले को लेकर मध्यप्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने गहरी नाराजगी जताई है। गृह मंत्री ने कहा था कि वह केंद्र सरकार से लुकआउट नोटिस जारी करने की मांग करेंगे, जिसके बाद अब गृह मंत्री के निर्देशानुसार डॉक्यूमेंट्री "काली" की डायरेक्टर मणिमेकलाई के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी कर दिया गया है। 

लुक आउट नोटिस अगर किसी व्यक्ति के खिलाफ भी नोटिस जारी कर दिया जाए तो वह देश छोड़कर नहीं जा सकता और उसे इसमें जहां भी संबंधित व्यक्ति दिखे, वहीं से गिरफ्तार करने की अनुमति मिल जाती है। फिल्ममेकर लीना मणिमेकलाई ने 2 जुलाई को अपनी डॉक्यूमेंट्री फिल्म का पोस्टर शेयर किया था। काली नाम की डॉक्यूमेंट्री के पोस्टर में हिंदू देवी के फिल्मी पात्र को सिगरेट पीते हुए दिखाया गया था। साथ ही, पोस्टर में मां काली के एक हाथ में एलजीबीटी समुदाय का सतरंगा झंडा दिखाया गया है। फिल्म के पोस्टर पर हो रहे विवाद पर फिल्ममेकर लीना मण‍िमेकलई ने ट्वीट करके अपना पक्ष रखा था। उन्होंने कहा था कि फिल्म उन घटनाओं के इर्द-गिर्द घूमती हैं जो उस शाम की है जब काली प्रकट होती हैं और टोरंटो की सड़कों पर टहलती हैं। 

डॉक्यूमेंट्री फिल्म 'काली' की डायरेक्टर लीना मणिमेकलाई ने 2002 में शॉर्ट डॉक्यूमेंट्री मथप्पा से अपनी फिल्मी सफर को शुरू किया। साल 2011 में लीना की पहली फीचर फिल्म सेंगडल रिलीज हुई थी। धनुष्कोडी के मछुआरों पर यह फिल्म बनी थी। जिनका जीवन श्रीलंका में एथनिक वॉर की वजह से बहुत प्रभावित हो रहा था। फिल्म को लेकर काफी बवाल भी हुआ था। उन्हें कानूनी लफड़े में भी फंसना पड़ा था। लीना मणिमेकलाई फिल्ममेकर के साथ-साथ कवियित्री और एक्ट्रेस भी हैं। उन्होंने कई डॉक्यूमेंट्री, फिक्शन और एक्सपेरिमेंटल पोयम फिल्में बनायी हैं। 5 कविता संकल भी प्रकाशित करवाई हैं।