एक तरफ 60 बच्चों के लिए 5 तो वहीं मात्र 7 बच्चों को पढ़ाने के लिए 4 शिक्षक !

शासकीय स्कूलों की वह क्या गज़ब की मॉनिटरिंग…