पिता के साथ मिलकर माता पर देशी कट्टे से किया फायर…

तिघरा पुलिस ने अपनी ही मां पर गोली चलाने वाले नाबालिग को अवैध हथियार सहित पकड़ा

ग्वालियर। ग्वालियर पुलिस द्वारा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ग्वालियर अमित सांघी के निर्देष पर फरार आरोपियों के विरूद्ध प्रभावी कार्यवाही की जा रही है। पुलिस को सूचना मिली कि दिनांक 13.05.2022 की दरमियानी रात्री में थाना तिघरा क्षेत्रांतर्गत ग्राम कुलैथ में महिला पर गोली चलाने वाले बाल अपचारी को मोतीझील के पास देखा गया है। उक्त सूचना पर से वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा अति. पुलिस अधीक्षक शहर-मध्य अभिनव चौकसे को थाना बल की टीम बनाकर उक्त बाल अपचारी को पकड़ने हेतु निर्देषित किया। वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देषों के परिपालन नगर पुलिस अधीक्षक ग्वालियर प्रमोद शाक्य के मार्गदर्षन में थाना प्रभारी तिघरा उनि. सुरेष सिंह कुषवाह के नेतृत्व में थाना बल की टीम बनाकर उसे मुखबिर के बताये स्थान थाना बहोड़ापुर क्षेत्रांतर्गत मोतीझील के पास भेजा गया। 

पुलिस टीम को वहां पर एक नाबालिक लड़का घुमता दिखाई दिया, जिसने पुलिस टीम को देख कर भागने का प्रयास किया। परन्तु पुलिस टीम द्वारा उसे घेराबंदी कर पकड़ लिया गया। पकड़े गये बाल अपचारी से घटना के संबंध में पूछताछ करने पर उसके द्वारा अपने पिता के साथ मिलकर फरियादिया माता पर देषी कट्टे से फायर करना स्वीकार किया गया। पुलिस टीम द्वारा उक्त बाल अपचारी की तलाषी लेने पर उसके पास से घटना में प्रयुक्त 315 बोर का देषी कट्टा मय जिंदा राउण्ड के बरामद किया जाकर विधिवत जत्प किया गया। पुलिस टीम द्वारा उक्त बाल अपचारी को थाना तिघरा के अपराध क्रमांक 51/22 धारा 307,459,34 भादवि में पकड़ा जाकर उससे प्रकरण के दूसरे आरोपी उसके फरार पिता के संबंध में पूछताछ की जा रही है। 

ज्ञात हो कि दिनांक 14.05.2022 प्रातः 08ः00 बजे फरियादिया रेखा पत्नि गजराज यादव द्वारा थाना आकर रिपोर्ट की गई कि दिनांक 13.05.2022 को वह अपने मायके ग्राम कुलैथ आयी थी। रात्री करीब 10 बजे उसके पति व नाबालिग पुत्र उसके पास आये और उससे झगड़ा करने लगे, इस दौरान मेरे पति द्वारा मुझे पकड़ लिया गया और मेरे नाबालिग पुत्र द्वारा मुझे मारने की नीयत से मेरे उपर कट्टे से फायर किया गया। जिसकी गोली मेरी दाहिने हाथ की उंगली में जा लगी। फरियादिया की रिपोर्ट पर से थाना तिघरा पुलिस द्वारा उक्त दोनों आरोपियों के विरूद्ध अपराध क्रमांक 51/22 धारा 307,459,34 भादवि का प्रकरण पंजीबद्ध किया जाकर विवेचना में लिया गया था।