पुलिस अंदर दाखिल हो तब कोई हादसा न हो इसलिए छोड़ी वार्निंग…

मां और दो बेटियों ने घर को गैस चेंबर बना दी जान

नई दिल्ली। दिल्ली के वसंत विहार इलाके में शनिवार देर शाम एक फ्लैट में एक ही परिवार के तीन सदस्य मृत पाए गए। मृतकों की पहचान मंजू और उसकी बेटियों अंशिका और अंकु के रूप में हुई है। बताया जा रहा है कि घर के मुखिया यानि पति की साल 2021 में अप्रैल में कोरोना के कारण मौत हो गई थी। इसके बाद से परिवार काफी अवसाद में था। मंजू बीमारी के कारण बिस्तर पर थी। 

घर से मिले सुसाइड नोट के मुताबिक, मां और दोनों बेटियों ने सुसाइड करने के लिए घर में गैस चेंबर बनाया था। उन्होंने घर को पूरी तरह से पैक किया गया। घर में लगी खिड़कियों को पॉलीथीन से ढक दिया गया। इसके साथ ही घर के बाहर के रोशनदान, वेंटिलेशन वाली खिड़की को भी पैक कर दिया गया और घर में अंगीठी जलाई गई। इसके अलावा घर का गैस सिलेंडर खोल दिया गया। इस तरह घर में गैस चेंबर बना कर मां और बेटियों ने सुसाइड किया। 

पुलिस जब घर के अंदर दाखिल हुई तो एक नोट मिला, जिसमें लिखा था- 'Too much deadly gas'। आगे नोट पर लिखा था कि दरवाजा खोलने के बाद माचिस या लाइटर न जलाएं, घर में काफी खतरनाक जहरीली गैस भरी हुई है। दरअसल ये नोट इसलिए लिखा गया था ताकि मौत के बाद जब पुलिस अंदर दाखिल हो तब कोई हादसा न हो। 

डीसीपी साउथ वेस्ट के मुताबिक 8 बजकर 22 मिनट पर वसंत विहार थाने की पुलिस को पीसीआर कॉल से जानकारी मिली थी कि वसंत अपार्टमेंट सोसायटी में फ्लैट नम्बर-207 में कमरा अंदर से बंद है और घर के लोग दरवाजा नहीं खोल रहे हैं। दिल्ली पुलिस मौके पर पहुंची और फ्लैट का दरवाजा तोड़ा गया तो घर में तीन लाश मिलीं। कमरे का दरवाजा अंदर से बंद था और खिड़की भी बंद थी। घर में छानबीन करने पर पता चला कि घर में अंगीठी जल रही थी और गैस सिलेंडर भी खुला हुआ था।