एक ग्रामीण महिला की सूझबूझ के चलते…

पटरी टूटी देखी तो बुजुर्ग महिला ने अपनी साड़ी पटरी पर बांध दी, टला हादसा


एटा। एक ग्रामीण महिला की सूझबूझ के चलते एक ट्रेन हादसा टल गया। ओमवती नाम की इस महिला ने जैसे ही रेल पटरी टूटी हुई देखी उसने अपनी लाल साड़ी को रेल की पटरी पर बांध दिया, लोको पायलट ने लाल कपड़ा देखकर इमरजेंसी ब्रेक लगा दिया। गाड़ी से उतरकर पायलट ने देखा कि पटरी टूटी हुई है इसकी सूचना अधिकारियों को दी गई और तत्काल ही पटरी की मरम्मत की गई, आधा घंटे बाद ट्रेन यहां से रवाना हुई। महिला की सूझबूझ की सभी प्रशंसा कर रहे हैं।

यह मामला एटा के कुलबा रेलवे हाल्ट स्टेशन के पास का है। गुलरिया गांव की 58 साल की ओमवती सुबह आठ बजे खेत पर काम करने के लिए जा रही थी तभी रेल पटरी पार करते समय उसकी नजर टूटी हुई पटरी पर पड़ी। उसे पता था की यहां से थोड़ी देर में एटा टूंडला पैसेंजर ट्रेन निकलने वाली है। वक्त कम था, सौभाग्य से लाल साड़ी उसके पास थी, उसने तत्काल वहां से घर के लिए दौड लगाई और लाल साड़ी लाकर उसे पटरी पर बांध दिया। लाल कपड़ा देखकर लोको पायलट ने गाड़ी को रोक दिया। 

इस तरह से बड़ा रेल हादसा टल गया। मामले की जानकारी वरिष्ठ अधिकारियों को दी गई। इसके बाद पटरी की मरम्मत की गई तब गाड़ी यहां से रवाना हुई । सभी ने इस महिला ओमवती के इस कार्य की प्रशंसा करते हुए रेल मंत्री से आग्रह किया है कि वे इस महिला को सम्मानित करें। महिला ओमवति का कहना था कि उसे इस बात की खुशी है कि उसके प्रयास से बड़ा हादसा होने से बच गया।