अरुणचल से लगी सीमा पर सैन्य क्षमताओं वाले गांव बसा रहा ड्रैगन…

अरुणाचल प्रदेश की सीमा पर चीन की नापाक नज़र !

चीन ने अरुणाचल प्रदेश में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) पर सेना की तैनाती और कंस्ट्रक्शन गतिविधियां तेज कर दी हैं। बॉर्डर के पास चीन ऐसे गांव बना रहा है जो सैन्य गतिविधियों के लिए भी इस्तेमाल किए जा सकते हैं। भारत भी चीन की इन हरकतों को ध्यान में रखते हुए अपनी स्ट्रैटजी बना रहा है। ये जानकारी ईस्टर्न आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे ने दी है। एक्सरसाइज की तेजी और समय में इजाफा हुआ है। ऐसे में भारतीय सेना किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार है और इसके लिए बहुत उच्च स्तर की तैयारी है। चीन से लगी 1300 किमी सीमा पर भारतीय सेना की तैयारियों को देख रहे जनरल पांडे ने बताया कि सेना की माउंटेन स्ट्राइक कोर ने पूरी तरह काम करना शुरू कर दिया है। इस कोर ने इंटीग्रेटेड ट्रेनिंग भी की है और इसकी सभी यूनिट पूरी तरह तैयार हैं। 

उन्होंने जानकारी दी कि सेना के आधुनिकीकरण के लिए इंटीग्रेटेड बैटल ग्रुप (IBGs) की मंजूरी दी जा चुकी है। ये ग्रुप तेजी से और ज्यादा असरदार तरीके से आगे बढ़ने में सक्षम हैं।इनमें सैनिक, तोप, एयर डिफेंस, टैंक और लॉजिस्टिक यूनिट्स शामिल हैं। इससे चीन और पाकिस्तान सीमा पर भारतीय सेना की युद्ध क्षमताओं में इजाफा होगा। जनरल पांडे का कहना है कि पूर्वी इलाके में चीन की बराबरी के लिए उपकरण बढ़ाए जा रहे हैं। इसके साथ ही काउंटर ड्रोन टेक्नोलॉजी खरीदने पर भी विचार चल रहा है। वहीं फॉरवर्ड इलाकों में सेना की क्षमताएं बढ़ाने के लिए नए लॉजिस्टिक स्टोर बनाने पर भी जोर दिया जा रहा है। अरुणाचल प्रदेश के तवांग सेक्टर में पिछले महीने भारतीय जवानों की चीन के सैनिकों से झड़प हो गई थी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अरुणाचल प्रदेश में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) पर चीन के 200 सैनिक तिब्बत की तरफ से भारतीय सीमा में घुस आए थे, जिन्हें भारतीय जवानों ने खदेड़ दिया।

करीब 9 महीने पहले एक मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया था कि चीन ने अरुणाचल में भारत की सीमा से साढ़े चार किलोमीटर अंदर एक गांव बसा लिया है। इसमें 100 से ज्यादा घर बनाए गए हैं। यह गांव सुबनसिरी जिले में सारी चु नदी के किनारे बसाया गया है। यह लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल के पास का एरिया है। US बेस्ड इमेजिंग कंपनी प्लेनेट लैब्स ने इसकी तस्वीरें जारी की थीं। पिछले दिनों खबर आई थी कि चीन के 100 सैनिकों ने 30 अगस्त को उत्तराखंड के बाराहोती सेक्टर में घुसपैठ की थी और 3 घंटे वहां रहने के बाद लौट गए। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक घोड़ों पर आए चीनी सैनिकों ने भारतीय सीमा में घुसकर तोड़फोड़ की और लौटने से पहले एक पुल भी तोड़ दिया था। बता दें कि बाराहोती वही इलाका है जिसमें चीन ने 1962 की जंग से पहले भी घुसपैठ की थी।