परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल ग्रामीणों में आक्रो…

28 घंटे बाद भी नहीं मिला तीसरी नाबालिक किशोरी का शव 

दतिया की इंदरगढ़ तहसील के उचाड़ गांव में सिंध नदी में मामुलिया सिराते समय नदी में डूबी तीन किशोरियों में से वैष्णवी का शव घटना के 24 घंटे बाद भी नहीं मिला। वैष्णवी को तलाश ने के लिए एनडीआरएफ की रेस्क्यू् टीम का सर्च ऑपरेशन दूसरे दिन भी जारी है। वहीं रेस्क्यू टीम की कार्यप्रणाली को लेकर ग्रामीणों में आक्रोश है। यहां वैष्णवी के परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। मालूम हो कि बुधवार सुबह सिंध नदी में मामुलिया सिराने गई तीन किशोरियां नदी में डूब गई थीं। 

दो किशोरियों संगीता और खुशी के शव स्थानीय गोताखोरों ने नदी से निकाल लिए थे। तीसरी किशोरी वैष्णवी की तलाश एनडीआरएफ की टीम रेस्क्यू कर रही है। ग्रामीणों का कहना है कि एनडीआरएफ टीम के गोताखोर सिंध नदी में नहीं उतरे। रेस्क्यू करती एनडीआरएफ की टीम। वैष्णवी के पिता जनवेद का कहना है कि मेरी बच्ची को नदी में डूबे हुए 24 घंटे होने के बाद भी शब बरामद नहीं हुआ। बचाव टीम के गोताखोर नहीं आए। केवल नाव से ही इधर-उधर घूम रहे हैं, अगर गोताखोर आते तो कुछ पता चलता।