क्राइम सीरियल देख जीजा को फंसाने रची साजिश…

प्रॉपर्टी के लिए 3 बहनों ने बनाया फर्जी लूट और छेड़छाड़ का प्लान

ग्वालियर में फर्जी लूट और छेड़छाड़ के मामले में शनिवार को झांसी रोड थाना दो लड़कियां समेत 4 लोगों को गिरफ्तार किया है। एक युवती अभी फरार है। पुलिस ने बताया कि आरोपी रिश्ते में जीजा लगने वाले युवक का मकान हड़पना चाहते थे। इसके लिए इन्होंने TV पर क्राइम सीरियल देखकर जीजा पर फर्जी लूट और छेड़छाड़ का केस दर्ज करा दिया। पुलिस ने मामले की जांच की तो CCTV कैमरे के फुटेज से सारी सच्चाई सामने आ गई। लोहिया बाजार में रहने वाली 28 साल की रुखसार ने 25 अगस्त को लूट और छेड़छाड़ का केस दर्ज कराया था। उसने बताया कि वह अपनी दादी की बरसी का कार्ड देने के लिए भाई की ससुराल ओफो की बगिया जा रही थी। इसी दौरान रिश्ते में जीजा राशिद खान अपने एक साथी के साथ रास्ते में खड़ा मिला। राशिद ने अपनी स्कूटर अड़ा कर उसकी स्कूटर को रोक लिया। जब इस पर रुखसार ने शोर मचाया तो राशिद उसकी चेन लूट कर भाग गया। रुखसार की शिकायत पर पुलिस ने जांच शुरू की। पुलिस जब राशिद को गिरफ्तार करके थाने लाई तो उसने खुद को निर्दोष बताया। 

उसने बताया कि रुखसार उसके मकान पर कब्जा करना चाहती है, इसलिए फर्जी केस में फंसा रही है। राशिद ने बताया कि वह घटना वाले दिन पत्नी मुतताज के साथ कोतवाली थाने में आवेदन देने गया था। उसके बाद सिटी सेंटर में एक वकील के पास गया था। यहां से वह शाम को 6 बजे के बाद निकला है। पुलिस ने फुटेज और मोबाइल लोकेशन जांच की तो राशिद की बात सही निकली। ASP राजेश डंडौतिया ने इस मामले में TI झांसी रोड मिर्जा आसिफ बेग को जांच के लिए लगाया। उन्होंने जब घटनास्थल के पास छानबीन की तो एक दुकान पर कैमरा लगा मिल गया। CCTV कैमरे की फुटेज देखी तो लूट और छेड़छाड़ की पूरी कहानी फर्जी निकली। फुटेज में रुख़सार दो युवकों से बात करते हुए दिख रही है। साथ ही एक बार वह लौट कर जाती है। फिर कटोरा ताल की तरफ से आती है। इस बार वही युवक उसे रोक कर वारदात को अंजाम देते हैं। पुलिस ने जब युवकों की पड़ताल शुरू की। दोनों युवकों की पहचान आनंद और अनूप के रूप में हुई। 

आनंद रुखसार का जीजा है, वह उसकी बड़ी बहन नगमा का पति है। अनूप, आनंद का दोस्त है। इसके बाद पुलिस ने दोनों को थाने लाकर पूछताछ की और फुटेज दिखाई। इसके बाद पूरी फर्जी कहानी का खुलासा हो गया। आनंद और अनूप ने पुलिस के सामने कबूल किया कि उन्होंने रुखसार, नगमा और रेशमा (तीनों बहनें) के कहने पर यह फर्जी लूट और छेड़छाड़ की थी। इसके बाद पुलिस ने रुखसार और नगमा को भी हिरासत में ले लिया, लेकिन रेशमा अभी फरार है। मुख्य आरोपी ने टीवी पर एक सीरियल देखने के बाद यह पूरी साजिश रची थी। नाका चन्द्रवदनी में राशिद खान का एक मकान है। इसकी कीमत लगभग 60 लाख रुपए है। रुखसार पहले उसमें किराए पर रहती थी। वह राशिद को जीजा और उसकी पत्नी मुमताज को बहन मानती थी। इसके बाद रुखसार मकान पर कब्जा करने की नीयत से उस पर अपना हक जताने लगी। इस पर उसे घर से निकाल दिया। इसी प्रॉपर्टी को लेकर विवाद है। इसमें वह राशिद पर दबाव डालने के लिए यह पूरा फर्जी लूट और छेड़छाड़ का मामला बुना है।