राहत और बचाव कार्य जारी…

हिमाचल में बादल फटने से 9 लोगों की मौत

हिमाचल प्रदेश के लाहौल स्पीति और कुल्लू में बादल फटने से नौ लोगों की मौत की पुष्टि  हो चुकी है. सात लोग अभी भी लापता बताए जा रहे हैं. बादल फटने की घटना लाहौल स्पिति के उदयपुर में मंगलवार शाम को हुई. घटना के बाद से वहां पर राहत और बचाव कार्य जारी है. इसके अलावा शिमला के पंथाघाटी में लैंडस्लाइट की चपेट में एक कार आ गई. शिमला में बीती रात से भारी बारिश हो रही है. जगह-जगह भूस्खलन हुआ है इसकी वजह से कई सड़के बंद हैं. 

आज भी रेड अलर्ट है. हिमाचल में भारी बारिश हो रही है. इस वजह से आम जीवन अस्त व्यस्त है. दर्जनों से सड़के बंद हैं इसकी वजह से राहत और बचाव कार्य में देरी हो रही है. रेस्क्यू टीम को घटनास्थल तक पहुंचने में भारी मशक्कत करनी पड़ रही है. राज्य के कई दुर्गम इलाकों में सड़कें बद पड़ी हैं. मलबा सड़कों पर आ गया है. अगले एक हफ्ते तक इसी तरह के मौसम होने के आसार हैं. मौसम विभाग ने रेड अलर्ट जारी किया हुआ है. 

लाहौल-स्पीति के उपायुक्त नीरज कुमार ने बताया कि भूस्खलनों के मलबे में फंसे मजदूरों को निकालने के लिए राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) का एक दल बुलाया गया है. उन्होंने कहा कि एनडीआरएफ द्वारा त्वरित बचाव अभियान के लिए जिला प्रशासन मौके पर आवश्यक उपकरणों की व्यवस्था कर रहा है. राज्य आपदा प्रबंधन निदेशक सुदेश कुमार मोख्ता ने बताया कि चम्बा में भारी बारिश के कारण अचानक आई बाढ़ में जेसीबी मशीन का एक सहायक बह गया. 

इसके साथ ही उन्होंने बताया कि इससे पहले मंगलवार को भारी बारिश के कारण भागा नदी में जलस्तर बढ़ने के बाद लाहौल-स्पीति के दारचा गांव से कई लोगों को बाहर निकाला गया था. दारचा पुलिस जांच चौकी के मुताबिक, भारी बारिश से नदी का जलस्तर काफी बढ़ गया, जिसके कारण नदी किनारे की तीन दुकानें क्षतिग्रस्त हो गईं. निचले इलाकों के आसपास रहने वाले लोगों को पुलिस ने सुरक्षित बाहर निकाल लिया है.