आरोपी के खिलाफ शहर के कई थानों में 2 दर्जन से अधिक मामले पहले से दर्ज…

हत्या के आरोपी शातिर हिस्ट्रीशीटर को पुलिस ने किया गिरफ्तार

ग्वालियर। पुलिस अधीक्षक ग्वालियर अमित सांघी को दिनांक 02.06.21 को जरिए मुखबिर सूचना प्राप्त हुई कि थाना पनिहार व माधौगंज में दिनांक 14 एवं 17 अप्रैल 2021 को हुई हत्या की बारदात का आरोपी कुख्यात हिस्ट्रीषीटर थाना कम्पू क्षेत्रान्तर्गत खजांची बाबा की दरगाह के पीछे देखा गया है जो हथियारबंद होकर किसी गंभीर बारादात को अंजाम देने की फिराक में घूम रहा है। मुखबिर की सूचना पर अति. पुलिस अधीक्षक ग्वालियर (शहर पश्चिम/क्राईम) सत्येन्द्र सिंह तोमर तथा डीएसपी अपराध रत्नेश तोमर एवं विजय भदौरिया को थाना बल व काईम ब्रांच की टीमें बनाकर उक्त आरोपी को शीघ्र गिरफ्तार करने हेतु निर्देशित किया। 

वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशों के परिपालन में डीएसपी क्राईम विजय भदौरिया के मार्गदर्शन में कार्य करते हुए क्राईम ब्रांच व थाना पनिहार पुलिस की टीमों द्वारा मुखबिर के बताये स्थान की घेराबंदी की गई। घेराबंदी के दौरान एक संदिग्ध व्यक्ति ने पुलिस टीम को देखकर भागने का प्रयास किया, जिसे पुलिस टीमों द्वारा घेराबंदी कर धरदबोचा। पकड़े गये संदिग्ध व्यक्ति की तलाशी लेने पर उसकी कमर में से एक 315 बोर का कट्टा मय दो जिंदा राउण्ड के बरामद किये गये। पुलिस पूछताछ में पकड़े गये बदमाश द्वारा थाना पनिहार में दिनांक 14.04.2021 को एवं थाना माधौगंज में दिनांक 17.04.2021 को हत्या की बारदात करना कबूल किया। पकड़े गये आरोपी के खिलाफ ग्वालियर शहर के विभिन्न थानों में हत्या, हत्या का प्रयास, लूट, व नकबजनी जैसे जघन्य दो दर्जन से अधिक अपराध पंजीबद्व है। गिरफ्तार आरोपी थाना कम्पू का कुख्यात बदमाश है जो थाना कम्पू का हिस्ट्रीशीटर है। 

ज्ञात हो कि दिनांक 14.04.2021 को थाना पनिहार क्षेत्रान्तर्गत शालूपुरा में मामूली विवाद के चलते एक युवक की हत्या कर दी गई थी। उक्त घटना पर से थाना पनिहार में अप.क्र. 58/2021 धारा 302, 294 भादवि का प्रकरण पंजीबद्व कर विवेचना में लिया गया जाकर पुलिस टीम बनाकर हत्याकाण्ड में शामिल आरोपी की तलाश की जा रही थी। उक्त आरोपी के द्वारा अपने तीन अन्य साथियों सहित थाना माधौगंज क्षेत्र स्थित गुढ़ा तलैया में दिव्यांग व्यक्ति की उसके घर के सामने रंगदारी के चलते हत्या कर दी थी। जिस पर से थाना माधौगंज में अप0क्र0 180/2021 धारा 302, 329,34 भादवि का प्रकरण पंजीबद्व कर विवेचना में लिया जाकर फरार आरोपियों की तलाश की जा रही थी।