प्रदेश को और मिले 45 हजार रेमडेसिविर…

वैक्सीनेशन का सुरक्षा चक्र करेगा कोरोना से बचाव : CM शिवराज

ग्वालियर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश एवं देश की जनता को कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए उन्हें वैक्सीनेशन का सुरक्षा चक्र प्रदान किया जा रहा है। इसी अनुक्रम में बुधवार से 18 वर्ष से अधिक और 45 वर्ष तक आयु वर्ग के युवाओं से उनके टीकाकरण के पश्चात एवं पहले के अनुभवों पर वे वर्चुअली चर्चा कर रहे थे। उन्होंने बताया कि प्रदेश में लगभग 5 करोड़ 16 लाख वैक्सीन डोज की जरूरत होगी। उन्होंने बताया कि मंगलवार को 45 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन भी प्राप्त हुए हैं। इनका आवश्यकतानुसार वितरण कराया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान कहा कि मैं नहीं कहता, वैज्ञानिक कहते हैं, तथ्य बताते हैं कि वैक्सीनेशन लगवाने के बाद अलबत्ता तो कोरोना होगा नहीं, और यदि हुआ तो नुकसान नहीं पहुँचाएगा। 

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सागर, जबलपुर, उज्जैन और ग्वालियर के 18 वर्ष से अधिक आयु के वैक्सीनेटेड युवाओं को संबोधित करते हुए कहा कि एक-एक जिले में एक-एक सत्र में वैक्सीनेशन कराया गया है। उन्होंने कहा कि इस महीने 9 लाख लोगों को टीका लगाया जाएगा। अभी तक लगभग 82 लाख लोगों को टीका लगाया गया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि देश की दो कंपनियों को वैक्सीन आपूर्ति के लिए आदेश के साथ भारत सरकार के माध्यम से विदेशी कंपनियों से आपूर्ति के प्रयास किये जा रहे हैं। 

मुख्यमंत्री श्री चौहान से वर्चुअली चर्चा करते हुए सागर की शीतल एवं राज ने कहा कि वैक्सीन लगवाने में कोई परेशानी नहीं हुई। पोर्टल पर सहजता से पंजीयन हो गया था एवं समय पर स्लॉट एवं सूचना मिल गयी थी। इसके बाद जबलपुर के शुभम एवं शुभाँगी से मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पूछा कि वैक्सीनेशन के बाद किसी प्रकार का कोई साइड इफेक्ट तो नहीं हुआ। उन्होंने कहा कोई साइड इफेक्ट नहीं हुआ। उज्जैन से अपूर्व देवड़ा एवं शिल्पी ने मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा पूछने पर बताया कि वेक्सीनेशन के बाद 30 मिनिट अंडर आब्जर्वेशन में उन्हें रखा गया था। ग्वालियर के सत्यांश एवं आयुषी तोमर से मुख्यमंत्री श्री चौहान ने वैक्सीनेशन स्थल के बारे में जानकारी ली। 

सोशल डिस्टेंसिंग के बारे में पूछा और कहा कि हॉस्पिटल्स से दूर वैक्सीनेशन स्थल का चयन सुरक्षा को देखते हुए किया गया है। ग्वालियर की आयुषी के प्रस्ताव का समर्थन करते हुए मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अपील की है, कि दूसरों की सहायता के लिए पुराने कोरोना पेशेन्ट अपना प्लाज्मा डोनेट करें। प्लाज्मा से दूसरे मरीजों की जान बचाई जा सकती है। उन्होंने आम जनता से कहा कि सप्ताह में 4 दिन वैक्सीनेशन किया जाएगा। वैक्सीनेशन के पहले व्यक्ति अपना ब्लड डोनेट कर सकते हैं। इससे आवश्यकता पड़ने पर दूसरों की मदद की जा सकेगी।