कर रहे थे शहर में दहशत फैलाने की तैयारी…

पुलिस ने कलेक्ट्रेट के पास 6 बदमाशों को 7 पिस्टल सहित पकड़ा

शहर में दहशत फैलाने की तैयारी कर रहे 6 बदमाशों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इनके पास से 7 पिस्टल, सात मैग्जीन, 7 कारतूस बरामद किए हैं। इन्हें कलेक्ट्रेट ऑफिस के पास से गुरुवार रात जिले की क्राइम ब्रांच ने पकड़ा है। यह बदमाश पिस्टलों की डील करने आए थे। साथ ही यह शहर में किसी बड़ी वारदात को अंजाम दे सकते थे। फिलहाल सभी बदमाशों को क्राइम ब्रांच थाना लाकर पुलिस पूछताछ कर रही है। ग्वालियर SP अमित सांघी को गुरुवार रात सूचना मिली थी कि कुछ बदमाश शहर के विश्वविद्यालय थाना क्षेत्र में कलेक्ट्रेट ऑफिस के पास सूनसान रोड पर एकजुट हुए हैं। यह शहर में कोई बड़ी लूट या हत्या जैसी वारदात को अंजाम दे सकते हैं। इस पर तत्काल क्राइम ब्रांच की टीम को अलर्ट किया गया। 

क्राइम ब्रांच की टीम ने बदमाशों की तलाश में अलग-अलग टीमें बनाकर घेराबंदी की। तभी कलेक्ट्रेट के पास वाहन लेकर कुछ युवक खड़े दिखाई दिए। इनको चारों तरह से पुलिस की टीमों ने घेर लिया। धीरे-धीरे पुलिस आगे बढ़ी। जैसे ही बदमाशों को पुलिस के आने की भनक लगी तो उन्होंने भागने का प्रयास किया। मौके से पुलिस ने 4 बदमाशों को गिरफ्तार किया है। यहां से दो बदमाश भाग गए थे जिन्हें सिरोल रोड से गिरफ्तार कर लिया गया है। जब इनकी तलाशी ली गई तो इनके पास से 7 पिस्टल बरामद हुई हैं। साथ ही 7 कारतूस भी मिले हैं। पकड़े गए बदमाशों से मिली पिस्टल .32 बोर की बताई गई हैं। इन्हें खरगोन से खरीदकर लाना बताया गया है। बदमाशों ने इन्हें 7 से 8 हजार रुपए में खरीदना बताया है। अभी पुलिस उनसे पूछताछ कर रही है कि वह किस मकसद से यहां आए थे। 

क्राइम ब्रांच ने पिस्टल के साथ 6 बदमाशों को पकड़ा है जिनकी पहचान शैलू उर्फ शैलेन्द्र सिसौदिया पुत्र गंगासिंह निवासी चिलौंगा सुरपुरा भिंड, हाल निवास विंडसर हिल्स टाउनशिप, शेरू उर्फ सुरेन्द्र गोस्वामी पुत्र रामप्रकाश निवासी गरम सड़क मुरार, सौरभ शर्मा पुत्र रमेश शर्मा निवासी त्यागी नगर, जयप्रताप उर्फ कल्लू चौहान पुत्र सुखनंदन सिंह निवासी इन्द्रा नगर चार शहर का नाका, गौरव पुत्र सुरेश शर्मा निवासी आर्यनगर, कबीर पुत्र पूरन सिंह भदौरिया निवासी घासमंडी मुरार के रूप में हुई है। पकड़े गए बदमाशों से पूछताछ की जा रही है। शुक्रवार को इनको कोर्ट में पेश करने के साथ ही कोविड टेस्ट कराया जाएगा। इसके बाद वहां से जेल के लिए भेजा जाएगा। अभी पुलिस पता लगा रही है कि यह किस मकसद से यह पिस्टलें लेकर आए थे।