कर्फ्यू के दौरान कौन-कौन सी सेवाएं रहेगी जारी !

15 अप्रैल से ग्वालियर में लगेगा 7 दिन का कोरोना कर्फ्यू

ग्वालियर। ग्वालियर में कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए 7 दिन का कोरोना कर्फ्यू लगाया जायेगा, कर्फ्यू के दौरान आवश्यक सेवाओं को बहाल रखा जायेगा। जिला क्राइसेस मैनेजमेंट कमेटी की बैठक में सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया है। उक्त निर्णय का प्रस्ताव शासन स्तर को भेजा जायेगा। स्वीकृति के उपरांत निर्णय का पालन सुनिश्चित होगा। मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित क्राइसेस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के संबंध में महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। क्षेत्रीय सांसद विवेक नारायण शेजवलकर की उपस्थिति में समिति के सदस्यों ने अपने महत्वपूर्ण सुझाव दिए। 

क्राइसेस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि 15 अप्रैल की सुबह 6 बजे से आगामी 7 दिनों तक कोरोना कर्फ्यू लगाया जाए। कर्फ्यू के दौरान दूध, सब्जी एवं आवश्यक सेवाओं के लिये सुबह 9 बजे तक छूट प्रदान की जायेगी। इसके साथ ही कर्फ्यू के दौरान पेट्रोल पम्प, दवाएँ, उचित मूल्य की दुकानों को छूट प्रदान की जायेगी। शासकीय कार्यालय भी जो अत्यावश्यक सेवाओं को प्रदान करते हैं वे खुले रहेंगे। कलेक्टर  कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बैठक में बताया कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिये प्रशासन की ओर से हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। शासकीय चिकित्सालयों के साथ-साथ निजी चिकित्सालयों में भी कोविड के उपचार की व्यवस्थायें की गई हैं। किसी भी मरीज को उपचार में दिक्कत न आए, इसके लिये सभी प्रबंधन किए गए हैं।

बैडों की संख्या निजी अस्पतालों के साथ-साथ शासकीय अस्पतालों में भी बढ़ाई गई है। कलेक्टर  ने सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल के साथ-साथ मुरार जिला चिकित्सालय में भी हेल्पडेस्क तैयार की है। इसके माध्यम से अस्पताल में भर्ती मरीजों की जानकारी देने के साथ-साथ कोई भी समस्या होने पर उसका तत्परता से निराकरण सुनिश्चित किया जायेगा। उन्होंने यह भी आश्वस्त किया कि जिले के शासकीय एवं निजी चिकित्सालयों में पलंगों की उपलब्धता का चार्ट भी प्रतिदिन तैयार कर कंट्रोल कमाण्ड सेंटर पर रखा जा रहा है। किसी भी मरीज को भर्ती होने में कोई भी परेशानी हो तो कंट्रोल कमाण्ड सेंटर अथवा हैल्पडेस्क पर संपर्क स्थापित कर सकता है। उसको यथाशीघ्र भर्ती कराने की व्यवस्था की जायेगी। 

कलेक्टर श्री सिंह ने क्राइसेस मैनेजमेंट समिति के सभी सदस्यों से आग्रह किया कि वे संक्रमण की रोकथाम के लिये अपने स्तर से भी जन जागृति का विशेष प्रयास करें। मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना वर्तमान समय की सबसे महत्वपूर्ण आवश्यकता है। सभी प्रतिनिधि स्वयं एवं अपने से जुड़े लोगों से भी जन जागृति के लिये अपील करें। बैठक में क्षेत्रीय सांसद  विवेक नारायण शेजवलकर ने भी महत्वपूर्ण सुझाव दिए। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य सेवाओं को और बेहतर करने की दिशा में हमें निरंतर प्रयास करना होगा। इसके साथ ही संक्रमण की रोकथाम के लिये सात दिन का कोरोना कर्फ्यू लगाया जाए। कर्फ्यू के दौरान आवश्यक सेवाओं के लिये आम नागरिक परेशान न हो यह भी सुनिश्चित किया जाए।