राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की 2 दिवसीय बैठक संपन्न…

भैयाजी जोशी की जगह लेंगे दत्तात्रेय होसबाले !

बेंगलुरू। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की सर्वोच्च ईकाई अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा की 2 दिवसीय बैठक शुक्रवार को बेंगलुरू में प्रारंभ हुई। इस बैठक में संघ के नम्बर 2 का फैसला होना था। शनिवार को सर्वसम्मति से सह-सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबाले को यह जिम्मेदारी दी गयी। होसबाले न केवल 2024 के चुनावों तक बल्कि 2025 में संघ के स्थापना के शताब्दी वर्ष के कार्यक्रम के दौरान भी आरएसएस के संगठनात्मक ढांचे को कन्ट्रोल करेंगे। 

अभी तक सुरेश भैयाजी जोशी 2009 से सरकार्यवाह यानी महासचिव की जिम्मेदारी संभाल रहे थे। 3 वर्ष पूर्व 2018 में भी उन्होंने पद छोड़ने की पेशकश की थी। लेकिन 2019 के लोकसभा चुनावों को देखते हुए उनका कार्यकाल बढ़ाया गया था। यह समझने के लिए संघ की व्यवस्था को समझना होगा। संघ प्रमुख या सरसंघचालक के लिए चुनाव नहीं होते। संघ प्रमुख अपने उत्तराधिकारी की नियुक्ति करते हैं। 

केएस सुदर्शन ने ही मौजूदा सरसंघचालक मोहन भागवत की नियुक्ति की थी। पर संघ प्रमुख की भूमिका मुख्य तौर पर मार्गदर्शन की होती है। संगठन का सारा कामकाज सरकार्यवाह ही देखते हैं।  सरकार्यवाह का चुनाव हर तीन साल में होने वाली अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा की बैठक में होता है। तीन साल का ही कार्यकाल भी होता है। आमतौर पर सभा की बैठक मार्च के दूसरे या तीसरे हफ्ते में 3 दिन के लिए होती है । 

शुक्रवार को शुरू होकर रविवार को खत्म होती है। इस बार यह बैठक 2 दिन के लिए है और शनिवार को ही नए सरकार्यवाह की घोषणा हो गई। जहां तक सालाना बैठक का सवाल है तो वह देशभर में कहीं भी हो सकती है। पर तीन साल में होने वाली अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा की बैठक हमेशा से नागपुर में होती आई है। पिछले साल की सालाना बैठक बेंगलुरु में होनी थी, पर अंतिम क्षणों में उसे कैंसिल कर दिया गया था। उस समय तक कई प्रतिनिधि बेंगलुरु पहुंच भी चुके थे।