विलंब से आने पर उप संचालक बैटनरी को कारण बताओ नोटिस…

अब बैठकों में सोशल डिस्टेंस के हिसाब से बैठेंगे अधिकारी : कलेक्टर

मुरैना। कलेक्टर बी.कार्तिकेयन की अध्यक्षता में डीएलसीसी एवं जिला स्तरीय आरसेटी सलाहकार समिति की बैठक शुक्रवार को नवीन कलेक्ट्रेट के सभागार में संपन्न हुई। बैठक में कलेक्टर ने सभी अधिकारियों को निर्देश दिये कि कोरोना को ध्यान में रखते हुये बैठक में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जायेगा। बैठक में सीईओ जिला पंचायत रोशन कुमार सिंह, एलडीएम कर्नल कुमार शर्मा, नगर निगम, जिला पंचायत, उद्योग सहित संबंधित बैंको के प्रतिनिधि उपस्थित थे। कलेक्टर बी.कार्तिकेयन बैटनरी विभाग की समीक्षा की। जिसमें मुरैना जिला पशु संख्याओं की संख्या अधिक है। किन्तु केसीसी की संख्या कम है। इस अवसर पर उप संचालक बैटनरी को बैठक में देखा गया तो बैठक में उपस्थित नहीं थे। 

इस पर कलेक्टर ने नाराजगी व्यक्त करते हुये कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिये। कलेक्टर श्री कार्तिकेयन ने बैंको को निर्देश दिये कि जिन बैंको ने क्वाटरली लक्ष्य पूर्ण नहीं किया है, वे दो दिवस के अंदर उसे पूर्ण कर लें। 31 मार्च को टीएल बैठक में सभी विभागों के लक्ष्य अचीप होने चाहिये। जिससे मुख्यमंत्री की व्हीसी में मुरैना जिला अच्छी प्रगति के साथ मौजूद रहे। प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना में विभागों एवं बैकांे द्वारा अच्छा कार्य किया है। वे सभी बधाई के पात्र है। किन्तु इस वर्ष जिन लोंगो ने प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना का लाभ लिया है, उन्होंने अपना ऋण चुका दिया है, उन्हें अगले वर्ष के लिये 20 हजार प्रति हितग्राही मानकर टारगेट चिन्हित कर लें। कलेक्टर ने सीएम हेल्पलाइन की समीक्षा की। 

समीक्षा में बैंक प्रतिनिधियों को निर्देश दिये कि बैकों में ही 50 प्रतिशत शिकायतें लंबित है, जो खाता खुलबाने संबंधी या कई शिकायतें ऐसी होंगी, जिनका निपटारा हो गया होगा। किंतु पोर्टल पर ये शिकायतें अभी भी दिख रहीं है इन शिकायतों का निराकरण समय-सीमा में करना सुनिश्चित करें। कलेक्टर ने कहा कि मार्च में प्राप्त होने वाली शिकायते संतुष्टपूर्ण निराकरण हों, उन्हें फोर्सली क्लोज नहीं किया जाये। क्योंकि उसी माह की उसी माह में शिकायत फोर्सली क्लोज करने पर जिले की रैकिंग घट जाती है। जिला पंचायत के सीईओ रोशन कुमार सिंह ने कहा है कि यह वित्तीय वर्ष तो 31 मार्च तक समाप्त होने वाला है। किन्तु 1 अप्रैल से बैंक बार खाता खोलने के आवेदन लंबित है, उन्हें प्राथमिकता के साथ खोंले. उनमें टाल-मटोल न करें।