विधानसभा उप चुनाव को दृष्टिगत रखते हुए समन्वय बैठक…

बेहतर तालमेल से शांति पूर्ण ढंग से सम्पन्न हो सकेंगे उपचुनाव : आईजी


ग्वालियर। पुलिस अधीक्षक ग्वालियर कार्यालय (सिटी सेंटर) के कन्ट्रोल रूम सभागार में विधानसभा उप चुनाव 2020 को दृष्टिगत रखते हुए अंतर जोन अपराध समन्वय बैठक का आयोजन किया गया है। बैठक के प्रारम्भ में पुलिस महानिरीक्षक ग्वालियर झोन अविनाश शर्मा द्वारा स्वागत भाषण दिया गया। तद्उपरान्त बैठक में उपस्थित ग्वालियर चम्बल जोन के जिलों के पुलिस अधीक्षकों द्वारा विधानसभा उप चुनाव 2020 की तैयारियों तथा कार्यक्षेत्र की जानकारी दी गई। पुलिस अधीक्षक ग्वालियर अमित संाघी द्वारा सर्वप्रथम पावर प्वाइंट प्रजेन्टेशन के माध्यम से ग्वालियर जिले में अपराध कारित कर अन्य जिलों तथा प्रान्तों में निवासरत् अपराधियों के आंकड़ों, फरार स्थाई वारंटियों व भौगोलिक स्थित की जानकारी दी। 

उक्त बैठक में अंतर जिला अपराधियों की सक्रिय गतिविधियों पर नियंत्रण, सूचनाओं का परस्पर आदान-प्रदान तथा अंतरजिला सीमाओं पर चैकसी बढ़ाने, असामाजिक तत्व जो चुनाव में शांति व्यवस्था को प्रभावित करते हैं के विरूद्ध पूर्व से नजर रखने एवं उनके विरूद्ध समय पर वैधानिक कार्यवाही किये जाने आदि विषयों पर चर्चा की जाकर भावी रणनीति तैयार करने पर विचार किया गया। बैठक में फरारी ईनामी अपराधी, वारंटी, कुख्यात असामाजिक गुण्डा तत्व के आपराधिक अभिलेखों एवं अन्य संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी का आपस में आदान-प्रदान भी किया गया। अंतर जोन विधानसभा उप चुनाव 2020 की अपराध समन्वय बैठक में आयुक्त ग्वालियर संभाग आशीष सक्सेना, पुलिस महानिरीक्षक चम्बल झोन मनोज शर्मा, पुलिस महानिरीक्षक, ग्वालियर झोन अविनाश शर्मा, ग्वालियर चम्बल जोन के समस्त पुलिस अधीक्षकगण जिसमें पुलिस अधीक्षक ग्वालियर अमित सांघी, एसपी शिवपुरी राजेश चन्देल, एसपी गुना राजेश सिंह, एसपी अशोक नगर रघुवंश सिंह भदौरिया, एसपी भिण्ड मनोज कुमार सिंह, एसपी दतिया अमन सिंह राठौड़ उपस्थित रहे। 


ठक में आयुक्त ग्वालियर संभाग आशीष सक्सेना ने कहा कि विधानसभा उप चुनाव शांति पूर्ण ढंग से सम्पन्न कराने के लिये पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों के बीच बेहतर तालमेल होना आवश्यक है तथा उन्होने कहा कि कोबिड के बीच पहली बार चुनाव होने जा रहे हैं इसलिए शांतिपूर्ण मतदान के साथ-साथ कोबिड से बचाव हेतु जारी की गई गाइड लाईन का पालन भी किया जाना आवश्यक है। उन्होने चुनाव के दौरान कोबिड से बचाव की क्या प्रक्रिया रहेगी इसके संबंध में उपस्थित पुलिस अधिकारियों को बताया। बैठक में उपस्थित सभी पुलिस अधिकारियों द्वारा अपने-अपने विचार व्यक्त किये। पुलिस महानिरीक्षक ग्वालियर झोन अविनाश शर्मा ने कहा कि अपराध व अपराधी की कोई सीमा नहीं होती है हमे सीमा विवाद में न पड़कर आपसी सामन्जस्य से अपराध को नियन्त्रण करना चाहिए, क्योंकि आपसी सामन्जस्य न होने के कारण अपराधिगण इसका फायदा उठाते हैं। 

पकड़े गये बदमाशों की सूचना जोनल पुलिस कन्ट्रोल रूम ग्वालियर के माध्यम से एक दूसरे को दी जा सकेगी, जिससे उनके क्षेत्र में बांछित होने पर उनसे पूछताछ की जा सके। पुलिस महानिरीक्षक ग्वालियर झोन ने इस अवसर पर कहा कि सीमावर्ती जिलों की पुलिस को ज्वाइंट पेट्रोलिंग प्लान बनाना चाहिए जिससे अपराधियों की धरपकड़ हेतु सीमावर्ती जिलों की पुलिस एक साथ नाकाबंदी कर अपराधियों की धरपकड़ कर सके। पुलिस अधीक्षक ग्वालियर अमित सांघी ने बदमाशों की धरपकड़ हेतु संयुक्त रूप से प्रयास करने का सुझाव दिया तथा कहा कि सीमावर्ती जिलों से अवैध हथियार भी ग्वालियर जिले में बेचने के लिये लाए जाते हैं, अपराध नियन्त्रण हेतु इसकी रोकथाम अति आवश्यक है। पुलिस महानिरीक्षक चम्बल जोन मनोज शर्मा ने बैठक में कहा कि सीमावर्ती जिलों की पुलिस के बीच आपसी तालमेल उच्च कोटि का होना चाहिए तभी एक दूसरे के क्षेत्र में निवासरत् बदमाशों की खिलाफ प्रभावी कार्यवाही की जा सकती है। बैठक में उपस्थित ग्वालियर-चम्बल जोन के समस्त पुलिस अधीक्षकों ने अपने-अपने सीमावर्ती क्षेत्र की समस्याओं सेे अवगत कराया और बैठक में उपस्थित सीमावर्ती जिलों के पुलिस अधीक्षकों द्वारा समस्याओं के निराकरण में पूर्ण सहयोग देने का आश्वासन दिया।