औद्योगिक क्षेत्रों में ऑक्सीजन सिलेंडर देने पर रोक…

अब सिर्फ अस्पतालों में होगी ऑक्सीजन सिलेंडर की सप्लाई

काेराेना महामारी में मांग बढ़ने के कारण अस्पतालाें काे खपत के मुताबिक ऑक्सीजन नहीं मिल पा रही है। शहर के निजी व सरकारी अस्पतालाें में करीब 2500 सिलेंडर की मांग है लेकिन एक हजार की आपूर्ति हाे पा रही है। वजह- सिलेंडर देने वाली चार कंपनियां औद्योगिक क्षेत्रों में भी गैस बेल्डिंग व अन्य कार्य के लिए ऑक्सीजन दे रही थीं। 

अब कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह ने इन कंपनियों को औद्योगिक क्षेत्रों में ऑक्सीजन सिलेंडर देने पर रोक लगा दी है। कलेक्टर ने कहा है कि चारों कंपनियां अगले दो महीने तक सिर्फ सुपर स्पेशलिटी व दूसरे कोविड अस्पताल को ही ऑक्सीजन सिलेंडर की सप्लाई करेंगी। आरआर गैस, अन्नपूर्णा लिमिटेड कंपनी, शुभम इंटरनेशनल कंपनी। ये कंपनियां ऑक्सीजन की आपूर्ति हॉस्पिटल को कर रहीं हैं। 

कोविड से पहले यानी फरवरी तक जेएएच में महज 200 ऑक्सीजन सिलेंडर की जरूरत होती थी, लेकिन आज जेएएच में हर दिन 1300 ऑक्सीजन सिलेंडर की सप्लाई हो रही है। इसमें अगर जिला अस्पताल मुरार व अन्य कोविड अस्पतालों का आंकड़ा मिला दें, जिनमें सरकारी और प्राइवेट दोनों शामिल हैं तो यह आंकड़ा 2500 तक पहुंच जाता है। यानी रोज ग्वालियर के कोविड अस्पतालों में 2500 सिलेंडर सप्लाई हो रहे हैं, लेकिन मरीजों की संख्या 7 हजार के पार है, जो हर दिन बढ़ रही है।

कलेक्टर के आदेश के बाद ऑक्सीजन सिलेंडर सप्लाई करने वाली चारों कंपनियों ने अब अपने पूरे सिलेंडर जेएएच और दूसरे कोविड अस्पताल को सप्लाई करना शुरू कर दिए हैं, क्योंकि आने वाले दो महीने बहुत अहम हैं। -डॉ.आरकेएस धाकड़, अधीक्षक, जेएएच