राजनीतिक गलियारों में शोक की लहर…
नहीं रहे यूपी की सत्ता के चाणक्य "अमर सिंह"

नई दिल्ली। अमर सिंह यारों के यार थे. रिश्ते निभाना ही नहीं, जीना जानते थे. कॉरपोरेट के साथ जितने सहज थे गंवई लोगों से भी उसी तरह से घुल-मिल जाते थे. बलिया, बनारस और गाजीपुर में जनसभा करने के बाद वह रात को ग्लैमरस पार्टियों में शामिल होने का माद्दा रखते थे. एक समय राजनीति के गलियारों से लेकर ग्लैमर की गलियों तक वो अपरिहार्य से हो गए थे. उन्हें शिखर चूमने की तमन्ना थी. फिल्मों के शौकीन थे. घूमना अच्छा लगता था. उनमें ठाकुरों की ठसक थी. जिनसे व्यक्तिगत रिश्ते होते उसकी जान बन जाते. जिससे खटक जाती, उसकी सार्वजनिक रूप से लानत-मलानत करने में भी संकोच नहीं करते. तंज कसते तो शेरो- शायरी का सहारा लेते. मौज लेनी होती तो गानों के बोल बोलते. वह मदद करते और खुलकर चाहते कि उनका एहसान माना जाए. 

लंबे समय से वह बीमारी से जूझ रहे थे. 1 अगस्त 2020 को सिंगापुर के एक अस्पताल में राज्य सभा सांसद अमर सिंह का 64 साल की उम्र में सिंगापुर में निधन हो गया. उनका किडनी ट्रांसप्लांट हुआ था. समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता रहे अमर सिंह कई महीनों से सिंगापुर में इलाज करवा रहे थे. अमर सिंह के निधन के बाद उन्हें हर कोई अपनी तरह से श्रद्धांजलि देते हुए याद कर रहा है. अमर सिंह कभी यूपी की सत्ता के चाणक्य माने जाते थे, हर राजनीतिक दल में उनकी पैठ थी और सभी दलों के नेताओं से उनके रिश्ते थे.

इस तरह याद आए अमर सिंह -
अमर सिंह के निधन पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ, यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने शोक जताया. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अमर सिंह के निधन पर कहा, श्री सिंह बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी थे. वहीं पीएम मोदी ने राज्यसभा सांसद अमर सिंह के निधन पर शोक जताते हुए ट्वीट में लिखा, कि 'अमर सिंह एक ऊर्जावान व्यक्ति थे, जो पिछले कुछ दशकों में कई राजनीतिक घटनाओं के साक्षी रहे. उनके निधन पर दुखी हूं. ओम शांति.' 

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा ने उन्हें याद करते हुए कहा कि सिंह सामाजिक स्वभाव वाले कुशल राजनेता और रणनीतिकार थे. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने उन्हें याद करते हुए लिखा कि वरिष्ठ नेता एवं सांसद अमर सिंह के निधन के समाचार से दुःख की अनुभूति हुई है. सार्वजनिक जीवन के दौरान उनकी सभी दलों में मित्रता थी. स्वभाव से विनोदी और हमेशा ऊर्जावान रहने वाले अमर सिंह को ईश्वर अपने श्रीचरणों में स्थान दें. उनके शोकाकुल परिवार के प्रति मेरी संवेदनाएं.

यूपी के सीएम ने अपने ट्वीट में लिखा कि, अपनी विशिष्ट कार्यशैली से भारतीय राजनीति पर अमिट प्रभाव डालने वाले मृदुभाषी राजनेता, सांसद अमर सिंह जी का निधन दुःखद है. उनके परिजनों के प्रति मेरी संवेदनाएं. प्रभु श्री राम से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान प्रदान करें. ॐ शांति! - योगी आदित्यनाथ, सीएम, यूपी