मिशन 27 के लिए कांग्रेस का महामंथन…

27 को कमलनाथ देंगे चुनाव प्रभारियों को जीत का मंत्र

भोपाल l मध्य प्रदेश में होने वाले 27 सीटों पर उपचुनाव को लेकर कांग्रेस और बीजेपी ने पूरी तरह से कमर कस ली है. जहां बीजेपी चुनाव की रणनीति को लेकर मंथन कर रही है. वहीं कांग्रेस भी बड़ी बैठक करने जा रही है. पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ गुरुवार को उपचुनाव क्षेत्र प्रभारियों के साथ बैठक करेंगे. सुबह 11:00 बजे कमलनाथ के बंगले पर ये बैठक शुरू होगी. इस बैठक में सभी 27 विधानसभा सीटों की मौजूदा स्थिति, विधानसभा प्रभारियों से विधानसभा वार फीडबैक, आगामी रणनीति और भाजपा को जबाव देने की रणनीति पर चर्चा होगी. उपचुनाव क्षेत्र प्रभारियों के साथ बैठक में कमलनाथ नेताओं को जमीनी जिम्मेदारियां सौंपेंगे, 

साथ ही उप चुनाव क्षेत्र की सर्वे रिपोर्ट साझा करेंगे. मीटिंग के दौरान ही कमलनाथ के प्रचार करने का ड्राफ्ट तैयार किया जाएगा. नेताओं के साथ मिलकर कमलनाथ उप चुनाव क्षेत्र में दौरे का प्लान तैयार करेंगे. बैठक के बाद लगातार जिम्मेदार नेता और प्रभारी उपचुनाव क्षेत्र में ही रहेंगे. जमीनी टीम के साथ कमलनाथ फोन और ऑन लाइन मीटिंग पर संपर्क में रहेंगे. आपको बता दें कि कांग्रेस के मध्य प्रदेश के वरिष्ठ नेताओं को विधानसभा वार जिम्मेदारी सौंपी गई है. तभी से ये नेता प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के निर्देश पर इन विधानसभा क्षेत्रों के चुनावी समीकरणों के आधार पर कामकाज कर रहे हैं. चुनाव आयोग द्वारा उपचुनाव समय पर होने के संकेत मिलने के बाद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने तैयारियां तेज कर दी हैं. 

आपको बता दें कि मध्य प्रदेश में 27 सीटों पर विधानसभा उपचुनाव होने हैं. सूबे में 10 मार्च को कांग्रेस के 22 विधायकों ने पार्टी से इस्तीफा देकर बीजेपी का हाथ थाम लिया था और तत्कालीन कमलनाथ सरकार को अल्पमत में लाकर आखिरकार गिरा दिया था.इसके बाद 12 जुलाई को बड़ा मलहरा से कांग्रेस विधायक प्रद्युम्न सिंह लोधी और 17 जुलाई को नेपानगर से कांग्रेस विधायक सुमित्रा देवी कसडेकर ने भी इस्तीफा दे दिया था. 23 जुलाई को मांधाता विधायक ने भी कांग्रेस से दूरी बना ली. इस तरह मार्च से अब तक पार्टी से इस्तीफा देने वालों की संख्या अब 25 हो गई है. वहीं विधायकों का निधन हो गया है. जिसके बाद मध्य प्रदेश में 27 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होना है.