समाज, जनप्रतिनिधि तथा अधिकारी साथ मिलकर करें संघर्ष...
प्रदेश सरकार की ओर से आपदा में मुरैना को मिलेगा भरपूर सहयोग 

ग्वालियर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि सभी के सहयोग से मुरैना कोरोना पर जीत हासिल करेगा। लेकिन कोरोना को हराने के लिये हमें सावधान रहकर दूसरों को भी जागरूक करना होगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान शनिवार को जिला स्तरीय संकट प्रबंधन समूह (डिस्ट्रिक क्राइसेस मैनेजमेंट ग्रुप) की बैठक में कोरोना की स्थिति की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कलेक्टर को निर्देश दिए कि कोरोना संक्रमित मरीज के इलाज में कोई कमी न रहे। सैम्पलिंग में वृद्धि की जाये और समय से पहले कोरोना संक्रमित की पहचान हो सके, जिससे संक्रमण से किसी मरीज की मृत्यु नहीं हो। कोरोना के खिलाफ लड़ाई जीतने के लिये जिन संसाधनों की भी जरूरत होगी, प्रदेश सरकार उनकी कमी नहीं आने देगी। 

इस अवसर पर केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, प्रदेश के मंत्री ऐदल सिंह कंषाना, राज्यमंत्री गिर्राज डण्डोतिया, महापौर अशोक अर्गल, जिला पंचायत अध्यक्ष गीता हर्षाना, पूर्व मंत्री रूस्तम सिंह, मुख्यमंत्री के ओएसडी बीएम शर्मा, आयुक्त जनसम्पर्क सुदाम पी खाड़े, चंबल कमिश्नर रवीन्द्र कुमार मिश्रा, आईजी मनोज शर्मा, डीआईजी राजेश हिंगडकर, कलेक्टर प्रियंका दास, पुलिस अधीक्षक सुजानिया, पूर्व विधायक एवं मंत्री मुंशी लाल, पूर्व विधायक अम्बाह कमलेश जाटव, रघुराज सिंह कंषाना, सुवेदार सिंह रजौधा, सत्यपाल सिंह सिकरवार, शिवमंगल सिंह, सभापति अनिल गोयल, जिला स्तरीय क्रायसिस मैनेजेमेन्ट समिति के पदाधिकारी तथा मान्यता प्राप्त राजनैतिक दलों के पदाधिकारी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कोरोना के खिलाफ लड़ाई जनता के सहयोग से ही जीती जा सकती है। जिला प्रशासन एवं पुलिस सभी को भरोसे में लेकर इस अभियान को आगे बढ़ाए। उन्होंने कहा कि खुशी की बात है कि मुरैना चंबल के निवासियों की प्रतिरोधक क्षमता (इम्युनिटी) बहुत मजबूत है। यही वजह है कि यहाँ कोरोना मरीजों की मृत्यु दर अत्यंत कम है। उन्होंने कहा कि मुरैना में कोरोना संक्रमण पर प्रभावी नियंत्रण रहा है। 

मगर पिछले एक हफ्ते में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ी है। प्रदेश सरकार इस स्थिति को लेकर पूरी तरह सजग है। इसी सिलसिले में आज मुरैना में समीक्षा बैठक रखी गई। उन्होंने बैठक में निर्देश दिए कि परिस्थितियों को ध्यान में रखकर रणनीति में भी बदलाव करें, जिससे कोरोना का फैलाव न होने पाए। मुख्यमंत्री ने कोरोना से बचाव के लिए पुख्ता रणनीति के साथ काम करने पर विशेष जोर दिया। उन्होंने कलेक्टर को निर्देश दिए कि कोरोना की सैम्प्लिंग में ओर वृद्धि की जाए जिससे संक्रमित व्यक्ति की समय से पहचान की जाये जिससे कोई अप्रिय स्थिति ना बने जिले में कोरोना मरीजों के इलाज के लिए चिन्हित अस्पतालों व आइसोलेशन सेंटर में बिस्तर की व्यवस्था बढ़ाना सुनिश्चित करें। साथ ही अस्पतालों में ऑक्सीजन सिलेण्डर को बढ़ाने की अगर आवश्यकता हो तो यह भी किया जाए जिससे कोरोना संक्रमित मरीजों का बेहतर से बेहतर इलाज हो सके। उन्होंने यह भी कहा कि अन्य बीमारियों के इलाज के लिये भी अस्पताल निर्धारित रहें।