विविध खबरें...

लोगों तक वैक्सीन पहुंचने में लगेंगे ढाई साल : WHO

कई देशों द्वारा कोरोना की वैक्सीन बनाने के दावों के बीच वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) ने चेतावनी दी है कि अगर इस साल कोविड-19 की वैक्सीन बन भी जाती है तो उसे लोगों तक पहुंचने में ढाई साल से ज्यादा का वक़्त लग सकता है।  विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार अभी तक कोई भी ऐसी वैक्सीन नहीं बनी है जिसे कोरोना वायरस वैक्सीन का नाम दिया जा सके. WHO के विशेष दूत डॉ. डेविड नाबारो ने चेतावनी दी है कि दुनिया में सभी तक टीका पहुंचने में ढाई साल से भी ज्यादा का समय लग सकता है. ब्रिटिश चिकित्सक ने कहा कि अगर साल के अंत तक टीका आ भी जाता है तो सुरक्षा और प्रभाव जांचने के लिए कुछ समय लगेगा. डेविड के मुताबिक देशों को वैक्सीन के उत्पादन का भी इंतजाम करना शुरू कर देना चाहिए क्योंकि बड़ी जनसँख्या वाले देशों में वितरण काफी मुश्किल काम है।

अगले सात दिनों में पतंजलि के स्टोर पर मिलने लगेगी कोरोनिल

आयुर्वेद से बनी कोरोनिल दवाई को अगले सात दिनों में पतंजलि के स्टोर पर मिलने लगेगी, इसके अलावा सोमवार को आर्डर-मी ऐप लॉन्च किया जाएगा जिसकी मदद से घर पर ये दवाई पहुंचाई जाएगी।

CWC की बैठक में बोले पूर्व PM डॉ मनमोहन सिंह

कोविड के खिलाफ जिस साहस, परिमाण और प्रयास की आवश्यकता है, उस तरह के प्रयास नही किए जा रहे। भारत-चीन सीमा पर संकट है, जो अगर दृढ़ता से नहीं निपटता है, तो गंभीर स्थिति पैदा हो सकती है।

Donald Trump ने H-1B वीजा पर साल के अंत तक लगाया प्रतिबंध

अमेरिकी राष्ट्रपति Donald Trump ने भारत को झटका देते हुए H-1B वीजा पर साल 2020 के अंत तक प्रतिबंध को घोषणा कर दी। Donald Trump की इस घोषणा की वजह से दुनिया भर के 2.4 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित होंगे। कोरोना महामारी के चलते नौकरियां गंवा चुके लाखों अमेरिकी लोगों की मदद के लिए यह कदम उठाया गया है और इसका सबसे ज्यादा नुकसान भारत के आईटी प्रोफेशनल्स को होगा। अमेरिका में काम करने के लिए H-1B वीजा पाने वाले सबसे ज्यादा आईटी प्रोफेशनल्स भारतीय होते हैं। यह आदेश 24 जून से लागू होगा। इसका असर कई भारतीय प्रोफेशनल्स के साथ ही कई अमेरिकी और भारतीय कंपनियों को प्रभावित करेंगी, जिन्हें 1 अक्टूबर से शुरू होने वाले वित्तीय वर्ष 2021 के लिए अमेरिकी सरकार द्वारा H-1B वीजा जारी किए गए थे।

भोपाल में शुरू हुआ तेज बारिश का दौर

भोपाल। राजधानी में तेज बारिश का दौर शुरू हो गया है। मंगलवार सुबह से ही बारिश से शहर का मौसम बदल गया। वहीं, छह अन्य संभाग, शहडोल, रीवा, मंडला, बालाघाट, होशंगाबाद, उज्जैन के जिलों में भी भारी बारिश हो सकती है। इसके लिए मौसम विभाग ने यलो अलर्ट जारी कर दिया है।


ग्वालियर में मनी संजय गांधी की पुण्यतिथि

दिनांक 23 जून 2020 को प्रातः 9 बजे कांग्रेस पार्टी के नेता पूर्व सांसद स्व.संजय गांधी जी की पुण्यतिथि के अवसर पर प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी शहर जिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष आदरणीय देवेंद्र शर्मा जी एवं ग्रामीण ज़िला कोंग्रेस कमेटी अध्यक्ष आदरणीय अशोक सिंह जी के नेतृत्व में संजय काम्प्लेक्स ज्येन्दरगंज पर समस्त कांग्रेसजन के साथ सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए पुष्पांजलि अर्पित की।

रमैआ बांध की जमीन की जा रही खुर्द बुर्द : गुर्जर

ग्वालियर  l सिंचाई विभाग के अधिकारियों द्वारा रमैआ बांध के भराव क्षेत्र में आने वाली भूमि को भू माफियाओं के साथ मिलकर खुर्द- बुर्द  करने की योजना को मूर्त रूप दिया जा रहा है l जिसके लिए  प्रमुख सचिव मध्यप्रदेश शासन एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारियों को शिकायत की गई है lयह जानकारी लोकसभा युवा कांग्रेस ग्वालियर के महासचिव शिवराज सिंह गुर्जर ने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से दी गई है l  महासचिव शिवराज सिंह गुर्जर ने बताया कि रमैआ बांध के भराव क्षेत्र में लखनौती कला गांव की भूमि पर भू माफियाओं द्वारा पार बनाकर अनाधिकृत रूप से कब्जा कर लिया है l बांध में आने वाले पानी के प्रभाव को सिंचाई विभाग के अधिकारियों की मिलीभगत से प्रभावित किया जा रहा है l इसमें रमैआ बांध का केचमेंट एरिया प्रभावित होगा तथा बांध अपनी क्षमता के अनुरूप नहीं भर पाएगा इस कारण शासन की महत्वपूर्ण मुरार क्षेत्र के लिए पेयजल व्यवस्था को  प्रभावित की जा रही हैl तथा रमैआ बांध मुरार नदी में पानी छोड़ कर बेहटा एवं बहादुरपुर नहर का संचालन भी प्रभावित होगा जिससे उक्त क्षेत्र की कृषि भूमि करीब 4000 हेक्टर सिंचाई से प्रभावित होगी रमुआ बांध से करीब 20 गांव की खेती को सिंचित किया जाता हैl श्री गुर्जर ने बताया कि सिंचाई विभाग के अधिकारियों द्वारा भू माफियाओं को संरक्षण देते हुए जमीन की अनापत्ति प्रमाण पत्र देने की प्रक्रिया की जा रही हैl इससे भविष्य में बांध की जमीन में भू माफियाओं द्वारा प्लॉटिंग कर मोटी रकम कमाई जा सकेगी रमैआ बांध मुरार शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र के लिए पेयजल एवं सिंचाई के लिए महत्वपूर्ण योजना हैl जिसे भ्रष्ट अधिकारी पलीता लगाने में लगे हुए हैं जिसकी शिकायत प्रमुख सचिव मध्यप्रदेश शासन, जनप्रतिनिधि गण एवं संबंधित अधिकारियों को की गई हैl