सीमा पर तनाव…
नेपाल पुलिस की अंधाधुंध फायरिंग में एक भारतीय की मौत

 भारत-नेपाल के बीच चल रहे मौजूद तनाव के बीच शुक्रवार सुबह बिहार से लगी सीमा पर नेपाल पुलिस द्वारा भारतीय किसानों पर अंधाधुंध फायरिंग करने का मामला सामने आया है। इस फायरिंग में एक भारतीय की मौत हो गई है। जबकि, दाे लोग घायल हुए हैं। घटना के बाद से भारत-नेपाल सीमा पर तनाव बढ़ गया है। दोनों तरफ सुरक्षा बल तैनात कर दिए गए हैं। घटना को लेकर सशस्त्र सीमा बल (SSB) के डीजी ने कहा कि घटना नेपाल क्षेत्र के अंदर हुई है अब स्थिति पूरी तरह सामान्य है। गृह विभाग ने घटना की रिपोर्ट केंद्र सरकार को भेज दी है। उधर, ऐसी ही एक और घटना बिहार के किशनगंज के इलाके में नेपाल सीमा पर पिछले दिनों हुई थी। उस वक्त भी नेपाल पुलिस ने वहां गए बिहार के लोगों पर फायरिंग की थी। शुक्रवार की सुबह करीब 8:30 बजे सीतामढ़ी के सोनबरसा थाना क्षेत्र की पीपरा परसाइन पंचायत की लालबंदी जानकीनगर सीमा पर नेपाल आर्म्ड फोर्स (नेपाल पुलिस) ने भारतीयों को निशाना बनाते हुए अंधाधुंध फायरिंग की। नेपाल पुलिस ने सीमा से एक व्यक्ति को बंधक भी बना लिया। ग्रामीणों की मानें तो नेपाल की ओर से 18 राउंड फायरिंग की गई। मृतक की पहचान जानकी नगर टोला लालबंदी निवासी नागेश्वर राय के 25 वर्षीय पुत्र विकेश कुमार के रूप में हुई है। वहीं, विनोद राम के पुत्र उमेश राम व सहोरवा निवासी बिंदेश्वर शर्मा के पुत्र उदय शर्मा घायल हैं। बंधक बनाया गया व्यक्ति जानकीनगर का लगन राय है। नेपाल पुलिस की इस कार्रवाई के बाद बॉर्डर पर तनाव बढ़ गया है। दोनों देशों के अधिकारी बॉर्डर पर पहुंचकर कैंप कर रहे हैं। 

सीतामढ़ी के एसपी अनिल कुमार ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि इसमें एक भारतीय की मौत हो गई है। दो लोग जख्मी हुए हैं। जबकि, एक को बंधक बना लिया है। तनावपूर्ण माहौल को देखते हुए डीएम अभिलाषा कुमारी शर्मा ने पुलिस व एसएसबी के अधिकारियों को सीमा पर हालात पर नजर रखने को कहा है। बता दें कि अभी भारत-नेपाल सीमा सील है, जिससे दोनों देशों के बीच आवाजाही बंद है। इसी बीच बिहार के सीतामढ़ी जिला निवासी लगन राय अपने पुत्र के साथ किसी महिला रिश्तेदार से मिलने सीमा पर गए थे। नेपाल पुलिस उनको सीमा से भगाना चाह रही थी। पिता-पुत्र ने थोड़ी देर की मोहल्लत मांगी तो नेपाल पुलिस ने उनके लड़के पर लाठी चला दी तथा लगन राय को घसीटते हुए सीमा से सौ मीटर दूर ले गई और बंधक बना लिया। यह देखकर सीमा पर क्रिकेट खेल रहे कुछ युवकों व खेतों में काम कर रहे लोगों ने विरोध करना चाहा तो नेपाल पुलिस ने फायरिंग शुरू कर दी। नेपाल पुलिस की ओर से यह कहा जा रहा है कि उसने अपनी सुरक्षा में फायरिंग की। उसका आरोप है कि भारतीय उनकी बंदूक छीनना चाह रहे थे। नेपाल पुलिस उन्हें तस्कर भी बता रही है। हालांकि, घटना का एक वीडियो भी सामने आया है, जिसमें नेपाल पुलिस लगन राय के बेटे को पीटती दिख रही है।  एसएसबी डीजी बोले: घटना नेपाल सीमा में, स्थिति सामान्य सीतामढ़ी में हुई इस घटना पर एसएसबी के डीजी कुमार राजेश चंद्र ने कहा कि यह घटना नेपाल सीमा के काफी अंदर हुई है। उन्होंने कहा है कि स्थिति पूरी तरह सामान्य है। 

सीतामढ़ी जिले के भारत-नेपाल सीमा पर नेपाल पुलिस की गोली से एक किसान की मौत और एक को बंधक बनाए जाने के इस मामले से शुक्रवार को बिहार के गृह विभाग ने केंद्र सरकार को अवगत करा दिया है। गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव आमिर सुबहानी ने बताया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय को रिपोर्ट भेजने के लिए सीतामढ़ी के जिलाधिकारी व एसपी से रिपोर्ट मांगी गई थी। भारत-नेपाल सीमा पर भारतीयों की नेपाल पुलिस के साथ तीखी झड़प हुई थी। इसके बाद माहौल तनावपूर्ण बन गया था। किशनगंज के दिघलबैंक प्रखंड क्षेत्र अंर्तगत करूवामनी पंचायत के सुरीभिट्ठा गांव के पार नेपाल के कुट्टी गांव के समीप रात लगभग 9.30 बजे नेपाल पुलिस ने हवाई फायरिंग की थी। इसे लेकर अगले दिन नो-मैंस लैंड पर एसएसबी के अधिकारियों, स्थानीय पुलिस व नेपाल पुलिस के अधिकारियों तथा दोनों देशों के जनप्रतिनिधियों ने बैठक कर मामला सुलझा लिया था। यह था मामला: नेपाल सीमा पर पिलर संख्या 125/10 के समीप नेपाल के कचन कबल गांव में भारतीय किसानों द्वारा नेपाल क्षेत्र में ठेका पर लगाए मक्का को तोड़ने की कोशिश की गई थी। दर्जनों की संख्या में पहुंचे किसान कचिया जैसे घरेलू हथियारों से लैस थे। नेपाल पुलिस के रोकने पर ग्रामीण जबरदस्ती करने लगे, जिसपर नेपाल पुलिस ने हवाई फायरिंग कर दी। इसके बाद सभी किसान भाग गए। एसएसबी 19वीं बटालियन के डिप्टी कमांडेंट नवीन कुमार व गंधर्वडांगा थानाध्यक्ष प्रदीप चंद्र ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान किसानों को नेपाल सीमा में प्रवेश नहीं करने व फसल को जमींदारों द्वारा कटनी कराने पर सहमति बनी है।