मुर्दाबाद के नारे लगाकर यूपी सरकार को कोसा…
MP-UP सीमा पर फिर हुआ मजदूरों का हंगामा

दतिया। मप्र के दतिया व शिवपुरी से लगी यूपी की दिनारा बॉर्डर पर मंगलवार को फिर हंगामा हुआ। सोमवार रात 10 बजे से रोके गए मजदूरों के लिए जब मंगलवार सुबह तक यूपी से बसें नहीं आईं तो उन्होंने हाईवे पर पत्थर रखकर जाम लगा दिया। तीन घंटे हंगामा चलता रहा। मौके पर पहुंचे मप्र के प्रशासनिक अमले ने यूपी पुलिस से बातचीत की इसके बाद सुबह 10 बजे वहां से इन मजदूरों का निकलना शुरू हुआ। महाराष्ट्र, मप्र व गुजरात से यूपी जाने के लिए मजदूरों का उप्र सीमा पर पहुंचना लगातार जारी है। 

पिछले तीन दिनों की तरह सोमवार की रात भी मजदूरों को सुबह तक रोका गया। यूपी पुलिस का कहना था कि सुबह बस आएगी, उससे आप सभी को भेज दिया जाएगा। मंगलवार को जब सुबह तक कोई बस नहीं आई और पानी तक का इंतजाम न होने को लेकर भड़के कामगारों ने हंगामा खड़ा कर दिया। मजदूरों ने आरोप लगाया कि एमपी के रास्ते में लोगों ने खाने तक का इंतजाम किया और यूपी में घुसने से ही हमें रोका जा रहा है। उन्होंने यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ और यूपी पुलिस मुर्दाबाद के नारे भी लगाए। 

स्थानीय पुलिस मौके पर पहुंची और मजदूरों को समझाया तब जाकर वह शांत हुए। इसके बाद पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे। बातचीत के बाद यूपी पुलिस की ओर से जितनी बसें मौके पर पहुंची, उनसे मजदूरों को भिजवाया और जो मजदूर अपने निजी साधनों से यहां तक पहुंचे थे उनके वाहनों को भी प्रवेश दिया गया। दोपहर 12 बजे चंबल रेंज के आईजी डीपी गुप्ता और दतिया एसपी अमन सिंह राठौर मौके पर पहुंचे। उन्होंने निर्देश दिए कि व्यवस्था बनाकर चलें और कि सी भी मजदूर को परेशान न होने दें। 

दतिया से झांसी की ओर जाने के लिए चिरुला बॉर्डर पर भी शुरूआत में मजदूरों को रोका जा रहा था, लेकि न अब यहां पर स्थिति सामान्य हो गई है। यहां पर जो भी मजदूर पैदल या ट्रक व बसों से पहुंच रहे हैं, उन्हें प्रवेश दिया जा रहा है। हालांकि यहां से गुजरने वालों की संख्या कम है क्योंकि जिन लोगों को झांसी शहर की जगह अन्य जिलों के लिए हाईवे की ओर जाना होता है वे शिवपुरी के दिनारा बॉर्डर होते हुए यूपी में रक्सा बॉर्डर से हाइवे पर निकलते हैं। दतिया जिले की जिगना थाना प्रभारी भूमिका दुबे के साथ रोजगार सहायक सूरज यादव, राहुल यादव, उपेन्द्र, दिलीप आदि लोगों की ओर से प्रवासी मजदूरों को भोजन, पानी आदि की व्यवस्था उपलब्ध कराई। 

मजदूरों का कहना है कि हमें हमारी सरकार ही घर जाने से रोक रही है। खाने पीने की भी कोई व्यवस्था नहीं कराई गई है, जबकि एमपी वालों की ओर से हमें रोक रोककर भोजन कराया जा रहा है। यूपी की ओर जाने वाले दिनारा बॉर्डर पर जौहरिया गांव के पास मजदूरों को रोका गया था इस संबं;घळर्-ऊि्झ। में मौके पर पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया गया है। हमारी कोशिश यही है कि कोई भी मजदूर परेशान न हो।