घटना का पत्रकारों ने कैमरा डाउन कर जताया विरोध...

कवरेज करने गए रिपोर्टर के साथ पुलिस ने की बदतमीज़ी


ग्वालियर। ग्वालियर में चल रहे लॉक डाउन के दौरान अपने कर्तव्यों का निर्वहन कर प्रशासन को सहयोग में जुटे पत्रकार और मीडियाकर्मियों पर डंडे बरसाने के मामले को पुलिस के अफसरों ने बहुत गंभीरता से लिया और ऐसा करने वाले तीन पुलिसकर्मियों को एसपी ने तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया ।

लॉक डाउन के दौरान स्वास्थ्य विभाग से जुड़े लोग,पुलिस कर्मी,प्रशासनिक अफसर और मीडियाकर्मी अपनी जान जोखिम में डालकर देश हित में अपने कर्तव्यों का निर्वहन कर रहे है । स्वयं प्रधानमंत्री इनकी प्रशंसा कर चुके है । लॉक डाउन के दौरान अखबार बांटने से लेकर मीडिया और पत्रकारिता से जुड़े सभी लोगों को अपना काम करने की छूट है । प्रशासन पहले ही घोषित कर चुका है कि मीडियाकर्मी सिर्फ अपने संस्थान का परिचय पत्र साथ रखें ।

सहारा समय के रिपोर्टर चेतन सेठ भी आज लॉक डाउन का कवरेज करने के लिए सड़क पर निकले थे । चेतकपुरी पर तैनात पुलिस वालों ने उन्हें रोका । उन्हीने बोला वे मीडिया से है । उन्होंने गले मे लटका अपना परिचय पत्र भी दिखाया तो वे आग बबूला होकत डंडे बरसाने लगे । इससे श्री सेठ को चोट भी आई । उन्होंने तत्काल अपने साथियों को खबर की और सबने तत्काल एसपी को घटना से अवगत कराया ।

उन्होंने फौरी जांच में पुलिस कर्मियों के कृत्य को ठीक नही माना और उन्होंने तत्काल ही आदेश देकर झांसी रोड थाने में पदस्थ एएसआई केके शाक्य,आरक्षक गौरव शर्मा और बालेन्द्र शर्मा को तत्काल प्रभाव से निलंबित करने के आदेश जारी किए ।

आज सुबह लॉक डाउन के दौरान अपने काम पर निकले एक मीडिया रिपोर्टर के साथ उसके द्वारा अपना परिचय देने और परिचय पत्र दिखाने के बावजूद पुलिस कर्मियों द्वारा अभद्रता करने की शिकायत मिली थी । प्रथम दृष्टया जांच में आरोप सही मिलने पर एक एएसआई और दो आरक्षको को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया है । - नवनीत भसीन, पुलिस अधीक्षक ग्वालियर

अपनी जान जोखिम में डालकर कोरोना के दौरान अपने दाइत्वों के निर्वहन में लगे पत्रकारों के खिलाफ जगह – जगह पुलिस द्वारा की जा रही अभद्रता और मारपीट के मामले रुकने का नाम नहीं ले रहे।  जिलों में ऐसा हो चुका है आज ऐसा ही एक निंदनीय और बर्वर मामला ,ग्वालियरमें भी हुआ। सहारा समय के रिपोर्टर मिलनसार और मृदु भाषी  रिपोर्टर चेतन सेठ आज जब लॉक डाउन की फील्ड रिपोर्टिंग क्र रहे थे तभी चेतकपुरी गेट पर   तैनात पुलिस वालों ने उन्हें रोक लिया।  सेठ ने बताया कि  मीडिया से हैं. उन्होंने  परिचय पत्र भी दिखाया लेकिन इन सबके बावजूद पुलिस वालो ने डंडे बरसाते हुए उन्हें घायल कर दिया।  उन्होंने इसकी सूचना मीडिया के अन्य साथियों को दी तब वे उन्हें अस्पताल लेकर गए।

हालाँकि इसकी जानकारी मिलते ही पुलिस अधीक्षक नवनीत भसीन ने तीनो पुलिस वालों को तत्काल निलंबित कर दिया लेकिन इस घटना पर विरोध प्रकट करने के लिए सभी मीडिया कर्मी फूलबाग पर एकत्र हुए और उन्होंने अभिनव और गांधीवादी तरीके से अपना विरोध प्रकट किया। सभी ने अपने कैमरे सड़क पर अपने सामने रख पंक्तिवद्ध खड़े होकर अपना विरोध जताया। प्रशासन ने घटना पर खेद जताया और भविष्य में पुनरावृति  न होने देने का भरोसा भी जताया