संक्रमण को ध्यान में रखते हुए...

उपार्जन केन्द्रों पर सोशल डिस्टेंसिंग के साथ हो रही है गेहूँ खरीदी 



ग्वालियर। कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण को ध्यान में रखते हुए किसानों को गेहूँ खरीदी में किसी प्रकार की परेशानी न आए। इसके लिये जिले में भी रबी विपणन वर्ष 2020-21 में 15 अप्रैल 2020 से उपार्जन केन्द्रों पर किसानों द्वारा निर्धारित समर्थन मूल्य पर अपना गेहूँ बेचना शुरू कर दिया गया है। प्रत्येक उपार्जन केन्द्रों पर सामाजिक दूरी बनाए रखते हुए एसएमएस प्राप्त किसान संबंधित केन्द्रों पर समर्थन मूल्य पर अपना गेहूँ बेच रहे हैं।

प्राथमिक कृषि सहकारी समिति बरई में बनाए गए उपार्जन केन्द्र पर गेहूँ बेचने आए बरई के कृषक प्रकाश सिंह कौरव ने बताया कि वह उनके नाम पर 45 क्विंटल एवं उनकी पत्नी श्रीमती रजनी कौरव के नाम पर 33 क्विंटल गेहूँ समर्थन मूल्य पर बेचने आए। उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस का संक्रमण न फैले, इसके लिये केन्द्र पर सेनेटाइजेशन किया गया है। किसानों के बीच एक मीटर की सोशल डिस्टेंसिंग भी रखी गई है।

इसी केन्द्र पर अपना गेहूँ बेचने आए ग्राम बरई के कृषक सुनील सिंह कौरव ने बताया कि वे 30 क्विंटल गेहूँ बेचने आए हैं। केन्द्र पर पेयजल, छाया जैसी मूलभूत सुविधाओं के साथ साबुन से हाथ धोने की व्यवस्था की गई है। उल्लेखनीय है कि शासन ने समर्थन मूल्य पर 1925 रूपए प्रति क्विंटल गेहूँ खरीदने का किसानों के हित में निर्णय लिया है। केन्द्र पर कार्यरत कम्पयूटर ऑपरेटर सत्यप्रकाश कौरव ने बताया कि शासन के निर्देशानुसार केन्द्र पर 15 अप्रैल से गेहूँ का उपार्जन शुरू हो गया है।

केन्द्र पर 200 किसान पंजीकृत हैं प्रतिदिन एसएमएस प्राप्त 6 से 10 किसान अपना गेहूँ लेकर आ रहे हैं। किसानों के गेहूँ को छानने हेतु छलना (ब्लोअर) भी लगाया गया है। केन्द्र पर आने वाले किसानों के लिये पेयजल, छाया जैसी मूलभूत सुविधा प्रदाय की जा रही है। बोरों में गेहूँ भरने, तौलने एवं सिलाई के दौरान कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष ध्यान रखा गया है।

रबी विपणन वर्ष 2020-21 में गेहूँ उपार्जन हेतु ग्वालियर संभाग में कुल 347 उपार्जन केन्द्र बनाए गए हैं। इन केन्द्रों पर शासन द्वारा घोषित समर्थन मूल्य पर रविवार तक 5 हजार 422 किसानों से 13 हजार 861 मैट्रिक टन से अधिक गेहूँ की खरीदी की गई है। एक हजार 722 मैट्रिक टन गेहूँ का परिवहन किया जा चुका है। संभाग के ग्वालियर जिले में 67 उपार्जन केन्द्र बनाए गए हैं। 915 किसानों से 3 हजार 180 मैट्रिक टन गेहूँ की खरीदी हो चुकी है। 185 मैट्रिक टन गेहूँ का परिवहन किया गया है। शिवपुरी में 70 उपार्जन केन्द्रों पर 1118 कृषकों से 2300 मैट्रिक टन एवं 98 मैट्रिक टन से अधिक का परिवहन किया गया है।

गुना में 68 उपार्जन केन्द्रों पर 1934 कृषकों से 4 हजार 845 मैट्रिक टन की खरीदी की जाकर 1018 मैट्रिक टन से अधिक का  परिवहन किया गया है। दतिया जिले में 70 उपार्जन केन्द्रों पर 530 किसानों से 1042 मैट्रिक टन से अधिक गेहूँ का उपार्जन कर 62 मैट्रिक टन का परिवहन किया गया है। इसी प्रकार अशोकनगर जिले में 72 उपार्जन केन्द्रों पर 925 किसानों से 2 हजार 492 मैट्रिक टन गेहूँ का उपार्जन कर 357 मैट्रिक टन गेहूँ का परिवहन किया गया है।