सर्वे में लगे अमले का बढ़ाया हौसला...

संभागायुक्त ने टाट पट्टी बाखल पहुंचकर सर्वे कार्य का लिया जायजा


इंदौर। कोरोना वायरस के मद्देनजर इंदौर में घर-घर जाकर किये जा रहे सर्वे कार्य को और अधिक विस्तारित किया जायेगा। संभागायुक्त श्री त्रिपाठी ने निर्देश दिये कि सर्वे कार्य को और अधिक प्रभावी बनाया जाये। इंदौर शहर के सभी घरों में सर्वे हो, इसकी संभावनाओं का पता कर विस्तृत कार्य योजना बनायी जाये। संभागायुक्त श्री त्रिपाठी ने आज शहर के टाट पट्टी बाखल पहुंचकर सर्वे कार्य का जायजा लिया।

इस अवसर पर सर्वे कार्य के नोडल अधिकारी रोहन सक्सेना, श्री परीक्षित सहित अन्य अधिकारी , चिकित्सक, सेक्टर ऑफिसर, राजस्व अधिकारी तथा सर्वे दल के सदस्य मौजूद थे। संभागायुक्त श्री त्रिपाठी ने सर्वे दल,टाट पट्टी बाखल में लगे चिकित्सकों के दल, राजस्व अधिकारी आदि से चर्चा कर उनका हौसला बढ़ाया। संभागायुक्त श्री त्रिपाठी ने इनसे इनकी समस्यायें पूंछी तथा उनके त्वरित निराकरण के निर्देश दिये। बताया गया कि टाट पट्टी बाखल क्षेत्र में दो सर्वे दल लगाया गये हैं।

इन सर्वे दलों द्वारा 2850 परिवारों का सर्वे पूरा कर लिया गया है। दूसरे चरण में अब यहाँ फॉलोअप की प्रक्रिया चल रही है। सर्वेक्षित 2850 परिवारों में से लगभग 2744 परिवारों का फॉलोअप भी हो गया है। बताया गया कि यहाँ सघन सर्वे का कार्य चल रहा है। किसी तरह की अब परेशानी नहीं आ रही है। संभागायुक्त श्री त्रिपाठी ने निर्देश दिये कि प्रतिबंधात्मक आदेशों का कड़ाई से पालन कराया जाये। बेवजह कोई भी नागरिक इधर से उधर नहीं घूम पायें, यह व्यवस्था सुनिश्चित की जाये।

इस अवसर पर बताया गया कि जिले में सघन सर्वेक्षण के लिये 465 दल बनाये गये हैं। इन दलों द्वारा  कोरोना संक्रमण से प्रभावित चयनित क्षेत्रों में घर-घर जाकर सर्वे का कार्य तेजी से किया जा रहा है। इन दलों द्वारा अब तक 50 हजार से अधिक परिवारों के ढ़ाई लाख से अधिक व्यक्तियों के सर्वे का कार्य पूरा कर लिया गया है। सर्दी-खांसी,जुकाम के लक्षण पाये जाने पर 600 व्यक्तियों का इलाज किया गया।

इनमें से कोरोना वायरस के लाक्षणिक पाये जाने पर 16 सेम्पल लिये गये,जिन्हें परीक्षण के लिये भेजा गया। संभागायुक्त श्री त्रिपाठी के निर्देश पर नोडल अधिकारी श्री रोहन सक्सेना ने बताया कि घर-घर सर्वे के लिये डेढ़ हजार और नये दल बनाने की प्रक्रिया शुरू की जायेगी। श्री त्रिपाठी ने निर्देश दिये कि आवश्यकता पड़ने पर आस-पास के जिलों से भी कर्मचारी बुलाये जा सकते हैं।