ग्वालियर के बाड़ा क्षेत्र में है ननिहाल…

पटियाला में दरोग़ा के कटे हाथ को गुना के बेटे डॉ मयंक ने जोड़ा


कोरोना वायरस का कहर दुनिया मे दिन प्रतिदिन  अपना कहर बरपा रहा है।भारत देश भी इस महामारी से अछूता नही है।ऐसे में आम लोगो की  सुरक्षा के लिए डॉक्टर्स व पुलिसकर्मी अपनी जान दाव पर लगाकर जनता के बीच रहकर उन्हें गीत गाकर,कही संदेश देकर या अन्य तरीकों से कोरोना वायरस से बचने के उपाय बता रहे है।

लेकिन देखने मे आया है कि कुछ जगह कुछ उपद्रवी लोग इन डॉक्टर्स व पुलिस कर्मियों को अपना निशाना बना रहे है ।उनके साथ मारपीट भी की जा रही है।ऐसी ही घटना घटित हुई अभी कुछ रोज पटियाला में ।जहाँ लॉकडाउन के दौरान एएसआई हरिजीत सिंह पर एक निहंग ने ड्यूटी के दौरान हमला कर दिया।जिससे उनका हाथ कट कर अलग हो गया।गंभीर घायल अवस्था में उन्हें  पीजीआई हॉस्पिटल में भर्ती किया।

जहाँ पर  सर्जन डॉक्टरों की टीम ने सात घंटे की कड़ी मेहनत कर एएसआई हरिजीत सिंह का हाथ पुनः जोड़ दिया।इसमें में मप्र के लिए गौरव की बात ये है कि मप्र के जिला गुना में रहने वाले डॉ मयंक मंगल भी टीम का हिस्सा रहे व इस सफल ऑपरेशन में उनकी भी भूमिका अहम रही।

आपको बता दे गुना के डॉ मयंक मंगल का ग्वालियर में भाऊ के बाजार में ननिहाल है।ग्वालियर के समाजसेवी कृष्ण बिहारी गोयल मामाजी के लड़के है।बताया गया है कि प्लास्टिक सर्जरी टीम में  डॉ. मंयक मंगल,सुनील गाबा, जेरी आर जॉन, सूरज नायर, चंद्रा भी इस सफल ऑपरेशन में शामिल रहे।