मप्र सरकार ने पंजीकृत प्रत्येक डिवाइस किया एलान... 

कॉमर्शियल वाहनों में जल्द लगेगी GPS-ट्रेकिंग डिवाइस : परिवहन आयुक्त


ग्वालियर l  मप्र सरकार ने पंजीकृत प्रत्येक कॉमर्शियल वाहनों और नेशनल परमिट वाले माल वाहक वाहनों पर जल्द ही GPS  डिवाइस लगाना अनिवार्य कर दिया जायेगा। 6 अक्टूबर गुरूवार को परिवहन आयुक्त कार्यालय में इस दिशा में मध्यप्रदेश के परिवहन आयुक्त संजयकुमार झा ने GPS  ट्रैकिंग डिवाइस की 11 कंपनी को बुलाया है। इन कंपनियों ने वन टू वन चर्चा की जा रही और उनकी ट्रैकिंग डिवाइस के संबंध में जानकारी एकत्र की जा रही है। जो इन के टेस्ट में पास हो जायेगा में 5 कंपनियों को यह ट्रैकिंग डिवाइस लगाने का काम सौंपा जायेगा।

हर वाहन में GPS  डिवाइस लगाई जाएगी। इसका सिम नंबर और चेसिस नंबर परिवहन विभाग के वाहन पोर्टल और VLT  पोर्टल पर दर्ज कराया जाएगा। यह पूरा डाटा स्टेट डाटा सेंटर के सर्वर में सेव होगा और कुल्हान स्थित परिवहन आयुक्त मुख्यालय के जरिए वाहनों पर पल पल नजर रखी जा सकेगी। उप परिवहन आयुक्त  के अनुसार यह डिवाइस हर 2-2  मिनट में डाटा सेंटर को मैसेज भेजता रहता है। यात्री के पैनिक बटन दबाने, वाहन के गलत रूट पर जाने, हादसा होने पर तत्काल जानकारी मिल जाएगी।

जीपीएस डिवाइस बाजार में 8 से 12 हजार रुपये तक की है। छोटे वाहनों में पैनिक बटन कम होने से अधिक खर्च नहीं आता। जबकि बसों में थोड़ा खर्च बढ़ जाता है। दो पहिया और तिपहिया वाहन GPS  वाहन की अनिवार्यता से मुक्त रहेंगे। अब तक राज्य में 15 हजार वाहनों में GPS  लगाया जा चुका है। बाकी को 20 अप्रैल तक का वक्त दिया गया है। सभी टैक्सी, मैक्सी, जीप, कार, बसों में इसे लगाना होगा।