आफत बनकर गिरी बिजली…

MP में बिजली गिरने से अब तक 16 मौतें, शिवपुरी में सिंध नदी उफनी

भोपाल में तड़के करीब साढ़े चार बजे से गरज-चमक के साथ तेज तो कभी रिमझिम बारिश हो रही है। राजस्थान-ओडिशा से नमी मिलने के कारण मध्यप्रदेश के कुछ शहरों में मध्यम से भारी बारिश होगी। इंदौर में रिमझिम रहेगी, जबकि महाराष्ट्र से सटे इलाके बालाघाट और रतलाम में अच्छी बारिश होगी। अगले चार दिन तक मौसम का यही मिजाज रहेगा। दो दिन में अब तक 16 लोगों की बिजली गिरने से मौत हो चुकी है। ताजा घटना शिवपुरी की है। शनिवार तड़के 4 बजे जिले के भौंती थानाक्षेत्र के ग्राम देवरी में बिजली गिरने से मां की मौत हो गई, बेटा गंभीर रूप से घायल हो गया। शांति देवी (60) और उनका बेटा झोपड़ी में सोए हुए थे। घायल बेटे को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। 

उधर, विदिशा के लटेरी, गुना और अशोकनगर के शाड़ौर क्षेत्र में ज्यादा बारिश की वजह से शिवपुरी में सिंध नदी उफना गई। जिले भड़ौता रपटे के ऊपर से पानी बहा। शुक्रवार सुबह से देर शाम तक रास्ता बंद रहा। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक वेद प्रकाश सिंह ने बताया कि वर्तमान में दक्षिण-पश्चिमी राजस्थान के ऊपर चक्रवातीय गतिविधियां होने से नमी बनी हुई है। इसके साथ ही शनिवार से ओड़िशा से भी नमी मिलने लगी है। इससे महाराष्ट्र से लगे क्षेत्रों में शेष हिस्सों से ज्यादा बारिश होगी। मानसून ट्रफ जैसलमेर-कोटा, जबलपुर, पेन्ड्रा रोड और कलिंगपट्टनम से होते हुए पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी तक है। पश्चिमोत्तर बंगाल की खाड़ी में ओडिशा-आंध्रप्रदेश के तट के पास चक्रवात सक्रिय है। 

गुजरात से कर्नाटक तट के समांतर ट्रफ है। मध्यप्रदेश में शुक्रवार को कम इलाकों में बारिश हुई। उमरिया, छिंदवाड़ा, बालाघाट, नर्मदापुरम, गुना, शिवपुरी, अशोकनगर, मण्डला, भोपाल, सतना, सीधी और बैतूल में कहीं-कहीं बूंदाबांदी और हल्की बौछारें पड़ीं। इसके अलावा अन्य इलाकों में गर्मी ने लोगों को परेशान किया। 13 जुलाई को पूर्णिमा है। 14 से सावन महीने की शुरुआत होगी। बारिश के लिए अहम माने जाने वाले इस महीने का आगाज बादल और बारिश के साथ होगा। दिनभर में कई बार बारिश होने की संभावना रहेगी। पिछले साल भी सावन के अधिकांश दिनों में हल्का-हल्का पानी बरसा था। 

खासकर सावन सोमवार पर जरूर बारिश हुई थी। इस बार भी आसार वैसे ही बने हुए हैं। रायसेन में शुक्रवार को सिलवानी के ग्राम मेहगवा कला में बिजली गिरने से दो लोगों की मौत हो गई। 26 साल के रूपसिंह व 16 साल के सचिन (दोनों निवासी मगरमोली) खेत में काम कर रहे थे। इसी दौरान बिजली गिर गई। गुना में बारिश की वजह से कच्चा मकान भरभराकर गिर गया। अलग-अलग कमरों में सो रहे 7 लोग दब गए। 6 साल के बच्चे समेत 5 से लोग घायल हो गए, जिन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। शीतला माता मंदिर के पास ढीमर कॉलोनी में राजाराम केवट (61) का परिवार 75 साल से इसी मकान में रह रहा था। 4-5 कमरों का कच्चा मकान था। एक हिस्से में राजाराम केवट, पत्नी के साथ रहते थे।